बड़े और छोटे तालाब में चल रहीं 310 नावों में से 65 फीसदी से अधिक नावें हैं अनफिट

बड़े और छोटे तालाब में चल रहीं 310 नावों में से 65 फीसदी से अधिक नावें हैं अनफिट

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 19 Sep 2019, 01:16:17 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

310 नावों में से 65 फीसदी से अधिक नावें हैं अनफिट, हैदराबाद नहीं अब खुद की कमेटी से फिटनेस

भोपाल. बड़ा-छोटा तालाब में चल रहीं 310 नावों में से 65 फीसदी अनफिट बताई जा रही हंै। ऐसे में जिन जर्जर (अनफिट) नावों से तालाबों में दुर्घटना की आशंका है, उन्हें फिट करने नगर निगम ने कवायद शुरू कर दी है। हालांकि निगम नावों को फिटनेस प्रमाण-पत्र देने के लिए स्थानीय स्तर पर कमेटी बनाने की कोशिश कर रहा हैै।

इसमें स्थानीय संस्थानों के एक-दो एक्सपट्र्स के साथ निगम के ही इंजीनियर रखे जाएंगे। जाहिर है, इस तरह सभी नावों को फिट करार देकर तालाब में चलने के लिए अनुमति दे दी जाएगी। सवाल है कि कागजी तौर पर फिट ये नाव दुर्घटनाग्रस्त होती हैं तो जिम्मेदारी किस की होगी।

अभी सिर्फ बड़ा-छोटा तालाब पर ही ध्यान

अभी नाव पंजीयन में बड़ा और छोटा तालाब पर ही ध्यान केंद्रित है। यहीं की नावों के लिए फार्म भरवाए जा रहे हैं। झील प्रकोष्ठ के कार्यपालन यंत्री संतोष गुप्ता का कहना है कि अभी हम फार्म देकर जानकारी ही जुटा रहे हैं। पंजीयन तभी होगा, जब संबंधित नाव संचालक नाव से जुड़े तमाम प्रमाण-पत्र देगा।


अब तक प्रतिबंधित नहीं कीं अवैध नाव
खटलापुरा की घटना के बाद भी तालाबों में अवैध नावों का संचालन बंद नहीं किया गया। पंजीयन की प्रक्रिया के बीच भी दोनों तालाब में बेरोकटोक चल रही है। तालाबों में जाल से मछली पकडऩे की छूट है, जबकि बारिश के महीनों में मछलियों का प्रजनन काल होता है। हाल ही में ऐसे ही जाल में क्रूज फंस गया था।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned