script संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन | BRTS corridor becomes accident zone in Santnagar | Patrika News

संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन

locationभोपालPublished: Dec 01, 2023 08:30:20 pm

संतनगर. पत्रिका
बीआरटीएस कॉरिडोर की रैलिंग व अन्य काम को ठीक करने के लिए फरवरी में टैंडर प्रक्रिया की बात कही गई थी, लेकिन दिसंबर तक हालात नहीं बदले हैं।

संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन
संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन,संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन,संतनगर में बीआरटीएस कॉरिडोर बना एक्सीडेंट जोन
कॉरिडोर में पाबंदियां और निगरानी तंत्र की कमी से आए दिन हादसे हो रहे हैं। गुरूवार को हुए हादसे में भी कॉरिडोर में वाहन का घुसना कारण बना।
सीहोर नाके से लेकर हलालपुर तक बीआरटीएस कॉरिडोर खतरनाक हो गया है। कॉरिडोर के दोनों ओर लगी रैलिंग एक दर्जन से अधिक जगहों पर क्षतिग्रस्त हो गई है। इन पर रेडियम नहीं होने से रात में क्षतिग्रस्त रेलिंग दिखाई नहीं देती है। कुछ जगहों पर तो रैलिंग गायब ही हो गई हैं। कॉरिडोर में रात के समय अन्य वाहन प्रवेश न कर पाएं, इसके लिए लगे गेट कई स्थानों पर टूटे पड़े हैं। सड़क पार करने के लिए बनाई जेब्रा क्रासिंग भी दिखाई नहीं देती है। बस स्टाप भी देखरेख के अभाव में खराब हो रहे हैं।
टैंडर का क्या हुआ?
फरवरी माह में तत्कालीन नगर निगम कमिश्नर केवीएस चौधरी ने कहा था कि बीआरटीएस कॉरिडोर की रैलिंग व अन्य काम को ठीक करने के लिए टैंडर प्रक्रिया चल रही है। एक माह में ठीक करने काम शुरू हो जाएगा। लेकिन 10 होने के बाद कॉरिडोर में कोई काम नहीं हुआ है।

दो हिस्सों में बंट गया बाजार
बीआरटीएस मार्ग बनने के बाद बैरागढ़ का थोक कपड़ा एवं बर्तन बाजार दो हिस्सों में बंट गया है। एक ओर से दूसरी ओर जाने के लिए ग्राहकों एक ओर की दुकानों से ही खरीदी करके चला जाता है, दूसरी ओर मुड़ने के लिए वाहन चालकों को लंबा रूट तय करना पड़ता है। बस स्टेंड से कालका चौक तक केवल दो जगह कट प्वॉइंट है।
मिक्स लेन में जाम
मिक्स लेन में जाम के हालात बन रहते हैं, क्योंकि इस पर दोनों ओर से वाहनों का दबाव बना रहता है। मोड वाले प्वॉइंट नगर निगम कॉम्प्लेक्स, चंचल चौराहा, बस स्टैंड पर मुड़ना आसान नहीं होता। कॉरिडोर में चलने वाली बसें इन प्वॉइंट मुश्किल से निकलती हैं।
कॉरिडोर एक्सीडेंट जोन बना
कॉरिडोर नहीं एक्सीडेंट जोन है। संतनगर से लालघाटी तक होने वाले ज्यादातर हादसे कॉरिडोर की वजह से हो रहे हैं। एक समय था जब दिन में कॉरिडोर में दूसरे वाहनों को रोकने के लिए तैनाती होती थी। रात के समय गेट बंद होते थे, अब सब कुछ राम भरोसे छोड़ दिया गया है।
मुकेश कुमार रहवासी
परेशानी बना कॉरिडोर
कॉरिडोर से यातायात सुलभ नहीं बल्कि बैरागढ़ में परेशानी बना है। मेन रोड पर जाम आम है। अब तो कॉरिडोर की कोई सुध लेने को तैयार नहीं है। आए दिन एक्सीडेंट होते रहते हैं। वैसे कॉरिडोर को हटाने की मांग शुरूआत से ही हो रही है।
दिनेश वाधवानी व्यापारी

ट्रेंडिंग वीडियो