सत्ता के साथ आए बसपा-सपा-निर्दलीय को झटका

- मंत्रिमंडल विस्तार में चर्चा तक नहीं
- सीटें कम और दावेदार ज्यादा होने से बनी ऐसी स्थिति

By: anil chaudhary

Published: 01 Jul 2020, 05:04 AM IST

भोपाल. भाजपा सरकार के साथ कांधे से कांधा मिलाकर चल रहे बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक मंत्रिमंडल विस्तार से बाहर रह गए। भाजपा में अपने और ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने को लेकर जोड़तोड़ चल रहा है। ऐसे में बसपा, सपा और निर्दलीय विधायकों के नाम की चर्चा तक नहीं हुई। जबकि, इनको विधायक मंत्रिमंडल में शामिल होने आशा थी।
राज्य में बसपा और सपा के एक विधायक हैं। इन दलों के विधायक सत्तारूढ़ दल भाजपा के साथ हैं। चार निर्दलीय विधायक हैं। मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए सभी तैयार हैं, लेकिन सत्तारूढ़ दल की प्राथमिकता सिंधिया खेमे के विधायकों सहित अपने विधायकों को महत्त्व देने की है। भाजपा के कई कद्दावर विधायक एवं पूर्व मंत्रियों के नामों पर पेंच हैं। इनमें सहमति बने तो सरकार के सहयोगी दलों को शामिल करने की बात हो। वर्तमान में जिस तरह की स्थिति उससे तो यह स्पष्ट है कि बसपा, सपा और निर्दलीयों को मंत्रिमंडल में मौका नहीं मिलेगा।
- ये तो मंत्री पद छोड़कर आए थे
निर्दलीय विधायक प्रदीप जयसवाल को कमलनाथ ने अपनी सरकार में शामिल कर खनिज जैसा महत्त्वपूर्ण विभाग दिया था। सत्ता बदलने के बाद उन्होंने यह कहकर कांग्रेस का साथ छोड़ दिया कि वह क्षेत्र के विकास के लिए किसी भी दल को साथ देने को तैयार हैं। राज्यसभा चुनाव में भी इन्होंने भाजपा उम्मीदवार का खुलकर साथ दिया, लेकिन इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में मौका नहीं मिलेगा।


मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने संबंधी मेरे पास कोई फोन नहीं आया और न ही इस संबंध में मेरी कोई बात हुई। यह चर्चा का विषय भी नहीं है।
- रामबाई, बसपा विधायक
मंत्रिमंडल के मामले में मेरी किसी से बात नहीं हुई है। किसे मंत्रिमंडल में शामिल करना है और किसे नहीं यह अधिकार मुख्यमंत्री का है।
- संजीव सिंह, बसपा विधायक

यह सही है कि निर्दलीय होने के बाद भी मैं मंत्रीपद छोड़कर आया था, भाजपा को ध्यान रखना चाहिए। निर्णय पार्टी को करना है।
- प्रदीप जससवाल, पूर्व मंत्री एवं निर्दलीय विधायक

Kamal Nath
anil chaudhary Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned