सत्ता के साथ खड़े बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक मंत्रिमण्डल विस्तार से बाहर

सीटें कम और दावेदारों की अधिक संख्या होने से बनी ऐसी स्थिति

भोपाल। भाजपा सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक मंत्रिमण्डल विस्तार से बाहर हैं। भाजपा में अपने और सिंधिया खेमे के विधायकों को मंत्रिमण्डल मे शामिल किए जाने को लेकर जोड़तोड़ चल रहा है, ऐसे में इन विधायकों के नाम की कोई चर्चा ही नहीं कर रहा है। जबकि ये विधायक मंत्रिमण्डल में शामिल होने के लिए हमेशा से तैयार दिखे।

राज्य में बसपा और सपा के एक विधायक हैं। इन दलों के विधायक सत्तारूढ़ दल भाजपा के साथ हैं। चार निर्दलीय विधायक हैं। मंत्रिमण्डल में शामिल होने के लिए सभी तैयार हैं, लेकिन सत्तारूढ़ दल की प्राथमिकता सिंधिया खेमे के विधायकों सहित अपने विधायकों को महत्व देने की है। भाजपा के कई कद्दावर विधायक एवं पूर्व मंत्रियों के नामों पर पेंच हैं। इनमें सहमति बने तो सरकार के सहयोगी दलों को शामिल करने की बात हो। वर्तमान में जिस तरह की स्थिति उससे तो यह स्पष्ट है कि बसपा, सपा और निर्दलीयों को मंत्रिमण्डल में मौका नहीं मिलेगा।

ये तो मंत्री पद छोड़कर आए थे -
निर्दलीय विधायक प्रदीप जयसवाल को कमलनाथ ने अपनी सरकार ने शामिल कर उन्हें खनिज जैसा महत्वपूर्ण विभाग दिया था। सत्ता बदलने के बाद उन्होंने यह कहकर कांग्रेस का साथ छोड़ दिया कि वह क्षेत्र के विकास के लिए किसी भी दल को साथ देने को तैयार हैं। राज्यसभा चुनाव में भी इन्होंने भाजपा उम्मीदवार का खुलकर साथ दिया। लेकिन इस बार उन्हें मंत्रिमण्डल में मौका नहीं मिलेगा।

किसने क्या कहा -

मंत्रिमण्डल के मामले में मेरी किसी से बात नहीं हुई है। किसे मंत्रिमण्डल में शामिल करना है और किसे नहीं यह अधिकार मुख्यमंत्री का है।
- संजीव सिंह, बसपा विधायक

----

मंत्रिमण्डल में शामिल किए जाने संबंधी मेरे पास कोई फोन नहीं आया और न ही इस संबंध में मेरी कोई बात हुई। यह चर्चा का विषय भी नहीं है।
- रामबाई, बसपा विधायक

----


यह सही है कि निर्दलीय होने के बाद भी मैं मंत्रीपद छोड़कर आया था, भाजपा को ध्यान रखना चाहिए। निर्णय पार्टी को करना है।

- प्रदीप जससवाल, पूर्व मंत्री एवं निर्दलीय विधायक

दीपेश अवस्थी Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned