Corona Virus पीड़ितों की मदद के लिए एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री मंत्री सहायता कोष में जमा कराएंगे बीयू के अधिकारी-कर्मचारी

बीयू प्रबंधन ने लिया निर्णय, 16 मार्च से हटाए गए गेस्ट फैकल्टी को भी देंगे न्यूनतम वेतन

भोपाल। कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन के बीच बरकतउल्ला विश्वविद्यालय प्रबंधन ने निर्णय लिया है कि विवि के सभी नियमित शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक स्टाफ के एक दिन के वेतन को कोरेना पीड़ितों की मदद के लिए मुख्यमंत्री मंत्री सहायता कोष में जमा कराया जाएगा। विवि के कुलसचिव और मप्र राज्य विश्वविद्यालय अधिकारी संघ के प्रांतीय महासचिव डॉ. बी. भारती ने प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के कार्यरत इस संवर्ग के सभी अधिकारियों से अपील की है कि कोरेना की महामारी से पीड़ित लोगों की मदद के लिए कम से कम एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराएं। कुलसचिव ने बताया कि विवि प्रबंधन की ओर से प्रत्येक अधिकारी-कर्मचारी का पूरा वेतन बनाया गया है, उनके वेतन में एक दिन की भी कटौती नहीं की गई है।

 

BU officials-employees will give one day's salary for corona patients fund

गेस्ट फैकल्टी के लिए भी की न्यूनतम वेतन की व्यवस्था

विवि के कुलसचिव डॉ. बी. भारती ने बताया कि कोरोना संक्रमण के विवि प्रबंधन ने यहां कार्यरत गेस्ट फैकल्टी को 16 मार्च से आगामी आदेश तक के लिए हटा दिया है। इस महामारी के चलते उनका जीवन-यापन भी प्रभावित होगा। क्योंकि उन्हें प्रति लेक्चर के हिसाब से भुगतान किया जाता था। इस स्थिति को देखते हुए विवि ने निर्णय लिया है कि प्रत्येक गेस्ट फैकल्टी के लिए हर दिन का एक न्यूनतम वेतन अवश्य दिया जाएगा। ताकि उन्हें भी किसी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करना पड़े।

विकास वर्मा Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned