scriptBudget is ready, know what will be available this time, election lolli | बजट हो गया तैयार, जानिए क्या मिलेगा इस बार, चुनावी लॉलीपॉप या कोई राहत | Patrika News

बजट हो गया तैयार, जानिए क्या मिलेगा इस बार, चुनावी लॉलीपॉप या कोई राहत

- विधानसभा सत्र में रखा जाएगा बजट

- कैबिनेट से बजट प्रस्ताव हो चुका है मंजूर

- अगले साल चुनाव होने से उम्मीदें व चुनौती ज्यादा

- बजट का आकार बढेगा। पहली बार चाइल्ड बजट भी

------------------------------------

भोपाल

Published: February 23, 2022 09:34:03 pm

Jitendra [email protected] भोपाल। हर साल बजट आता है, लेकिन इस बार चुनावी बिसात पर बजट के समीकरण हर वर्ग को राहत की उम्मीद जगा रहे हैं। बजट प्रस्ताव तैयार हो चुका है। कैबिनेट से भी मंजूर हो गया। अब बारी है 7 मार्च से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र में बजट प्रस्ताव रखे जाने की। इसमें बजट पास होगा, लेकिन उससे पहले जानिए कि आपको क्या मिल सकता है और क्या नहीं। किस प्रकार की चुनौतियों से बजट भरा है। पढि़ए पत्रिका की इस स्पेशल बजट रिपोर्ट को...
Chief Minister Shivraj Singh Chouhan Jandarshan Yatra in Jhirnya
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान
-------------------------
ये 5 बड़ी उम्मीदें-

1- महंगाई की मार से परेशानी। यह केंद्र का विषय, लेकिन जनता को इस मोर्चे पर राहत की उम्मीद। पेट्रोल-डीजल के राज्य के टैक्स में कमी की उम्मीदें।
2- सरकारी विभागों में खाली पदों पर नौकरी की उम्मीद। साथ ही स्वरोजगार के लिए अतिरिक्त मदद की भी अपेक्षाएं।
3- बिजली, पानी, सम्पत्ति सहित अन्य राज्य स्तरीय टैक्स में छूट की उम्मीद। कमर्शियल टैक्सेस में भी छूट की अपेक्षा।
4- पुरानी सडक़ों की मरम्मत, नई सडक़ों के निर्माण की अपेक्षा, स्मार्ट सिटी के समग्र विकास की उम्मीद, इंफ्रास्ट्रक्चर सुधार की अपेक्षा।
5- सामाजिक मोर्चे पर राहत व नई योजनाओं की उम्मीद। मसलन, सामाजिक पेेशन में बढ़ोत्तरी, कर्मचारी वेतनवृद्धि, दिव्यांग छूट, नई योजनाएं लाई जाएं
----------------------------

5 बड़ी चुनौती ये-
- कोरोना से बिगड़ी अर्थव्यवस्था और कैसे संभलेे, रोजगार-स्वरोजगार बढ़ाना
- कर्ज बढ़ता जा रहा है, दो साल से अतिरिक्त कर्ज, इसे काबू कैसे करें
- प्रदेश में निवेश को बढ़ाने की चुनौती, वैश्विक निवेश अभी कम

- स्वास्थ्य सेवाओं को कोरोना के हिसाब से और मजबूत करना
- इंफ्रास्ट्रक्चर के कामों को गति देना, सडक़ सहित अन्य मोर्चे अहम
-----------------------------
इस बार पहला प्रयोग ऐसा-

इस बार का बजट पहली बार जनता के सभी वर्गों से पूरी सलाह लेकर तैयार किया जाने वाला होगा। सरकार ने लगभग हर वर्ग से बजट पर सलाह ली है। इसके लिए बकायदा ऑनलाइन सुझाव भी बुलाए गए। ढ़ाई हजार से ज्यादा सुझाव सरकार को मिले थे। इसके अलावा विशेषज्ञों के अलावा विधायकों सहित अन्य जनप्रतिनिधियों से भी सुझाव लिए गए।
--------------------------
केंद्र ये इन मदों में मिलेगा ज्यादा पैसा, इसलिए इन पर फोकस-
राज्य के बजट को केंद्रीय योजनाओं में मिलने वाली मदद के हिसाब से भी तैयार किया जा रहा है। क्योंकि, केंद्र की योजनाओं के तहत राज्य को अपना हिस्सा मिलाना ही होगा। इस कारण विकास की रूपरेखा इसी आधार पर बन रही है। इसमें जल जीवन मिशन, सडक़ों के निर्माण, ग्रामीण इंफ्रास्ट्रक्चर, स्वास्थ्य सेक्टर, नई शिक्षा नीति, कृषि व सिंचाई संरचना आदि में मुख्य रूप से केंद्रीय मद मिलना है। इस कारण इन्हें विशेष तौर पर फोकस करके काम हो रहा है।
-------------------------
केंद्र से अटकी राशि वापस लाने पर भी जोर-

राज्य सरकार ने वर्तमान वित्तीय सत्र की योजनाओं में केंद्र में लंबित राशि को लाने के लिए मशक्कत तेज कर दी है। दरअसल, अनेक योजनाओं में केंद्र से इस वित्तीय सत्र की पूरी किस्तें नहीं आ पाई है। इस कारण सरकार की कोशिश है कि वित्तीय सत्र खत्म होने के पहले इस सत्र की पूरी राशि आ जाए। इसके लिए संबंधित विभागों को केंद्रीय मंत्रालयों से सीधे सम्पर्क करके जल्द राशि लाने के लिए कहा गया है। अभी मनरेगा, पीएम आवास, कृषि मुआवजा, आपदा राहत, स्मार्ट सिटी, जल मिशन सहित अनेक योजनाओं में राशि लंबित है। इसलिए इनके आवंटन को लेकर लिखा जा रहा है।
--------------------------
जानिए, आपको क्या मिल सकता है और क्या नहीं...

व्यापारी - कोरोनाकाल में घाटा झेल चुके व्यापारियों को राहत पहुंचाने की सौगात दे सकते हैं। टैक्स के विवादित मामलों का सुलझाने के लिए एक मुश्त समाधान योजना और भामाशाह योजना को आगे भी लागू रखा जा सकता है। व्यापारियों के लिए यह भी राहत रहेगी कि कोई नया टैक्स स्थानीय स्तर पर नहीं लगाया जाएगा।
-------------------------
कर्मचारी - कर्मचारियों को डीए और पेंशनर्स को महंगाई राहत का एलान हो सकता है। वर्तमान में केन्द्रीय कर्मचारियों की तुलना में राज्य कर्मचारियों को १२ प्रतिशत कम डीए मिल रहा है। ऐसी ही स्थिति पेंशनर्स की है। नए वित्तीय वर्ष के बजट में कर्मचारियों के लिए 31 प्रतिशत डीए के हिसाब से प्रावधान किए जा रहे हैं। वहीं प्रमोशन न होने से नाराज चल रहे कर्मचारियों को भी साधने के लिए कोई फार्मूला सुझाया जा सकता है।
-------------------------
महिला - संभागीय मुख्यालय पर उत्कृष्ट संस्थान बनाए जाएंगे। महिलाएं आत्मनिर्भर हों, इसके लिए महिला स्वसहायता समूहों को नए क्षेत्रों से जोड़ा जाएगा। स्वरोजगार के लिए बैंकों से सस्ता कर्ज का प्रावधान भी होगा। लाड़ली लक्ष्मी योजना का दूसरा चरण शुरू किया जाएगा। महिला सुरक्षा पर फोकस रहेगा। पोषण आहार का जिम्मा महिला स्वसहायता समूहों को दिया गया है। इसके अलावा इन स्व-सहायता समूहों के स्टार्टअप के लिए भी अलग से प्रावधान रहेगा।
-------------------------
युवा - बजट में युवाओं को ध्यान में रखकर रोजगार और स्वरोजगार के लिए प्रावधान किए जाने हैं। सरकार ने एक लाख रोजगार हर महीने देने का वादा किया है। इसके चलते करीब एक दर्जन विभागों में खाली पदों पर नियुक्तियां होना है। इसके लिए भी बजट के स्थापना मद में प्रावधान रखेंगे। वहीं स्वरोजगार के लिए सीएम उद्यम क्रांति योजना इस बार महत्वपूर्ण रहेगी। इसके लिए विशेष तौर पर बजट प्रावधान संभावित है। रोजगार मेलों, तकनीकी प्रशिक्षण सहित अन्य कनेक्टिंग योजनाओं के लिए भी राशि रहेगी।
-------------------------
कृषि - फसल बीमा का लाभ दिलाने पुख्ता व्यवस्था होगी। ओला पाला सहित प्राकृतिक आपदा नुकसान की भरपाई के लिए बजट में राशि बढ़ाई जाएगी। फसल के समर्थन मूल्य पर खरीदी जारी रहेगी। कृषि उपकरणों की उपलब्धता सहज करने के प्रावधान। ड्रोन का कृषि कार्य में उपयोग का प्रावधान नीति में होगा। खेती के लिए सस्ती बिजली के प्रावधान यथावत रहेंगे। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन के प्रावधान होंगे।
--------------------------------

बजट का गणित ऐसा-
- 2.41 लाख करोड़ का बजट मौजूदा वित्तीय सत्र में

- 2.17 लाख करोड़ मौजूदा वित्तीय सत्र का शुद्ध व्यय
- 2.5० लाख करोड़ से ज्यादा का बजट अब संभावित
- 46 हजार करोड़ तक औसत केंद्र से राज्यांश भी मिलता
------------------------------

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.