scriptBuilding permission to build a house in minute, just adopt this method | घर बनाने की परमिशन के लिए नहीं काटने होंगे चक्कर, चुटकी बजाते मिलेगी अनुमति | Patrika News

घर बनाने की परमिशन के लिए नहीं काटने होंगे चक्कर, चुटकी बजाते मिलेगी अनुमति

मिनटों में मिल जाएगी भवन अनुज्ञा अनुमति, बस अपनाना होगा यह तरीका

भोपाल

Published: March 25, 2022 03:42:50 pm

भोपाल. प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर और राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के शहरों में अब चुटकी में घर बनाने की परमिशन (Building Permission)मिलने लगेगी। इसके लिए नगर निगम और आर्किटेक्ट के चक्कर नहीं काटने पढ़ेंगे।

building_permission_will_be_given_in_minutes.png

इसके लिए सरकार ने मकान का क्षेत्रफल भी तय कर दिया है। अब 105 वर्गमीटर यानी 1127 वर्गफीट तक के आकार वाले प्लॉट्स पर घर बनाने के लिए बिल्डिंग परमिशन मिनटों में मिल जाएगी। इससे पहले लोगों को नगर निगम के इंजीनियरों के चक्कर लगाने पड़ेंगे और साथ ही नक्सा पास कराने के लिए आर्किटेक्ट को भी मोटी फीस देनी पड़ती थी। अब केवल बस मॉडल नक्शे का ऑनलाइन चयन करके फीस जमा करते ही मिनटों में बिल्डिंग परमिशन का सर्टिफिकेट मिल जाएगा।

मध्य प्रदेश सरकार के नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने दिल्ली और महाराष्ट्र राज्य की तर्ज पर इस सुविधा को शुरू करने की तैयारी कर ली है। सरकार जल्द ही मध्य प्रदेश भूमि विकास नियम 2012 में संशोधन करके इसे लागू कर देगी। एक्ट में संसोधन के बाद आवेदक को विभाग की वेबसाइट पर जाना होगा और ऑटोमैटिक बिल्डिंग परमिशन सिस्टम (एबीपीएस) सॉफ्टवेयर में एप्लाई करना होगा। डिटेल्स सबमिट करते ही मॉडल नक्शे के सेंपल सामने आ जाएंगे। नक्से का चयन करते ही सॉफ्टवेयर प्लॉट का प्रॉपर्टी टैक्स देखकर फीस की गणना कर स्क्रीन पर दिखा देगा और जैसे ही फीस जमा होगी इंस्टेंट एंड डीम्ड टू बी के नाम से परमिशन सर्टिफिकेट मिल जाएगा।

नए सिस्टम के लागू होने के बाद प्लॉट पर मकान बनाने के लिए न तो किसी आर्किटेक्ट की जरूरत होगी और न ही फाइल बिल्डिंग परमिशन के अफसरों के पास घूमेगी। पूरा काम ऑनलाइन और सोफ्टवेयर के जरिए अपने आप हो जाएगा और बिल्डिंग परमिशन मिल जाएगी। भूमि विकास नियम में संसोधन के बाद परमिशन की फीस प्लॉट के एरिया के आधार पर तय की गई है। इसके लिए 32, 48, 75, 105, 288 वर्गमीटर के स्लैब बनाए गए हैं जिससे परमिशन के लिए स्लैब को देखकर फीस जमा की जा सके ।

सरकार की नई योजना से सबसे ज्यादा फायदा छोटे प्लॉट मालिकों को होगा। छोटे प्लॉट पर घर बनाने वाले लोगों अभीतक सबसे ज्यादा परेशान होते रहे हैं। इसलिए सरकार ने प्लॉट के साइज को निर्धारित कर दिया है। वही छोटे आकार के प्लॉट पर बिल्डिंग परमिशन का पालन नहीं हो पाने से ज्यादा नुकसान भी नहीं होता है। प्रदेश में फिलहाल दो तरह से बिल्डिंग परमिशन जारी होती रही है। जिसमें 300 वर्गमीटर तक परमिशन लेने के लिए मान्यता प्राप्त आर्किटेक्ट या नगर निगम से परमिशन लेनी होती है और इससे अधिक के प्लॉट साइज के लिए सिर्फ निगम ही परमिशन देता रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Maharashtra News: महाराष्ट्र के रायगढ़ में संदिग्ध नाव मिलने से हडकंप, AK 47 सहित कई हथियार हुए बरामदRohingya Row: अनुराग ठाकुर का AAP पर आरोप, राष्ट्र सुरक्षा से समझौता कर रही दिल्ली सरकारपश्चिम बंगाल में STF को मिली बड़ी सफलता, अल-कायदा से जुड़े दो आतंकवादियों को किया गिरफ्तारBJP में शामिल होंगे JDU के पूर्व अध्यक्ष RCP सिंह, नीतीश के बारे में कहा- 7 जन्म में नहीं बन सकेंगे प्रधानमंत्रीराजू श्रीवास्तव की हालत नाजुक, ब्रेन हुआ डेड, दिल नहीं कर रहा काम, शुरू कराया गया महामृत्युंजय जापJharkhand News: कोर्ट का फरमान- एक साथ 15 दोषियों को सुनाई फांसी की सजा, जानिए क्या किया था इन्होंने अपराधबिहार में अपराधियों को पकड़ने आई UP पुलिस को बदमाशों ने कुत्तों से कटवाया, कमरे में बंद कर छोड़ दिए जर्मन शेफर्डअशोक गहलोत ने गुजरात सरकार पर साधा निशाना, प्रदेश के विकास मॉडल को बताया खोखला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.