scriptcentral and state pollution control board report on rivers | खास बातः 'सभ्य' कहे जाने वालों ने खोटी कर दीं खरी सी नदियां | Patrika News

खास बातः 'सभ्य' कहे जाने वालों ने खोटी कर दीं खरी सी नदियां

केंद्रीय और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रपट में शहरों की बेपरवाही उजागर...> अब भी कोशिश करें अगर हम, जी उठेंगी मरी-मरी सी नदियां...>

भोपाल

Updated: April 25, 2022 01:57:26 pm

विजय चौधरी @ भोपाल

समूचे देश के शहरी क्षेत्र में इंसानी बेपरवाहियों का दर्द नदियां झेल रही हैं। शहरवालों ने नदियों को सीवरेज और कचरे का डंपिंग पाइंट तो बनाया ही है, वे उद्योग से निकलने वाले खतरनाक रासायनिक तत्वों को ठिकाने लगाने के लिए भी नदियों का आंचल मैला कर रहे हैं।

b1.png
कर्मों का अक्स: देश की सबसे प्रदूषित 323 नदियों के 351 बहाव स्थान में 22 मध्यप्रदेश के
greeen.png

केंद्रीय और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की निगरानी रिपोर्ट में देश की सर्वाधिक प्रदूषित 323 नदियों के 351 बहाव स्थान का जिक्र है। इसमें 22 मध्यप्रदेश के हैं। प्रदूषण के लिहाज से खतरनाक 45 बहाव क्षेत्रों में से प्रदेश के चार स्थानों की बॉयोलॉजिकल ऑसीजन डिमांड (बीओडी...पानी का प्रदूषण मापने का पैमाना) 30 मिलीग्राम प्रति लीटर से भी ऊपर पहुंच गई है। यह पानी छूने लायक तक नहीं है।

b3.png

 

रिपोर्ट से जाहिर है कि सीवरेज और औद्योगिक कचरा बहाए जाने के कारण नागदा से रामपुरा के बीच चंबल के पानी का रंग ही बदल गया है। जहां बीओडी का स्तर 80 मिलीग्राम प्रति लीटर तक पहुंच चुका है, जिसे अत्यधिक खतरनाक माना जाता है। यही हाल मंडीदीप से विदिशा तक बेतवा नदी का है। इसका पानी भी प्रदूषित हो चुका है। क्षिप्रा के सिद्धनाथ घाट से त्रिवेणी संगम तक के हिस्से में बीओडी का स्तर 40 मिलीग्राम प्रति लीटर पाया गया है। यही स्थिति इंदौर की कान्ह नदी की है। यहां कबीटखेड़ी से खजराना तक का हिस्सा भयानक दूषित पाया गया।

b4.pngये नदियां प्रदूषित

मध्यप्रदेश में बहने वाली चंबल, खड़, बेतवा, क्षिप्रा, सोन, गोहद, कोलार, ताप्पी, बिछिया, चमला, छौपन, कलियासोत, कान्ह, कटनी, कुंदा मालेई, मंदाकिनी, पार्वती, नेवज, सिमरार, टमस, वैनगंगा नदी प्रदूषित है।

shi1.png

उद्योग बेलगाम, काबू करें सरकारें

इंदौर की नदी को उजला बनाने के लिए संघर्षरत सामाजिक कार्यकर्ता किशोर कोडवानी बताते हैं कि सीवरेज तो शहरों में बनने लगे हैं और इनके कारण परेशानी
कम हो रही है। मगर उद्योग बेलगाम हैं। नदियों को सबसे बड़ा दर्द ये ही दे रहे हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड हो या नगर निगम का अमला इन पर कार्रवाई करता ही नहीं।

बरसात का भी असर नहीं

नदियों के प्रदूषण को बारिश भी नही धो पा रही। रिपोर्ट के मुताबिक, 22 नदियों का पानी बरसात के बाद भी साफ नहीं हुआ। स्पष्ट है कि बहाव क्षेत्र में समस्या है, जिससे प्रदूषक तत्व नहीं मिट पा रहे हैं।

समाधान पर कोई ध्यान नहीं

औद्योगिक क्षेत्रों के लिए एलूएन्ट ट्रीटमेंट प्लांट (एटीपी) के लिए केंद्र सरकार 80 फीसदी तक आर्थिक मदद देने को तैयार है, मगर राज्य सरकारों का इस पर ध्यान ही नहीं है। नदियों के किनारे स्थान की उपलब्धता के बावजूद सरकारें इस दिशा में काम नहीं कर रही हैं।

गंगा तक पहुंच रहा गंदा पानी

प्रदेश की नर्मदा व उसकी सहयक नदियों को छोड़ दें तो अन्य नदियों का पानी सीधे या फिर उसकी सहायक नदियों के जरिए गंगा तक पहुंच रहा है। लिहाजा सीवेज और उद्योगों का अपशिष्ट ये नदियां गंगा तक पहुंचा रही हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

अब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : शुक्रवार को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानMP में ओबीसी आरक्षण: जिला पंचायत 30, जनपद 20 और सरपंचों को 26 फीसदी आरक्षणInflation Around the World: महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारसावधान! अब हेलमेट पहनने के बावजूद कट सकता है 2 हजार रुपये का चालान, बाइक चलाने से पहले जान लें नया नियमIPL 2022 RR vs CSK: चेन्नई को हरा टॉप 2 में पहुंची राजस्थानIPL 2022 Point Table: गुजरात और राजस्थान ने प्लेऑफ में टॉप 2 में जगह की पक्की, आरसीबी-मुंबई दिल्ली भरोसेबैंक में डाका डालने से पहले चोरों ने की विधिवत पूजा, फिर लॉकर से उड़ा ले गए गहने और कैशOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार पर भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.