scriptCheetahs are now expected to arrive in Kuno Palpur after August 15 | कूनो पालपुर में अब 15 अगस्त के बाद चीते आने के आसार | Patrika News

कूनो पालपुर में अब 15 अगस्त के बाद चीते आने के आसार

दक्षिण अफ्रीका सरकार को चीते देने की अभी नहीं मिली राष्ट्रपति से मंजूरी

पहले 13 अगस्त को चीते लाने की तैयारी थी

भोपाल

Published: August 12, 2022 10:19:25 pm

भोपाल। श्योपुर स्थित कूनो पालपुर नेशनल पार्क में चीते लाने की औपचारिकताओं में कुछ दिक्कतें आ रही हैं इससे प्रदेश में चीते 15 अगस्त के बाद आने की संभावना है। पहले 13 अगस्त को चीते लाने की तैयारी थी। इसके पीछे की मुख्य वजह भारत को चीता देने के लिए दक्षिण अफ्रीका सरकार को अभी राष्ट्रपति की मंजूरी ही नहीं मिलना है। हालांकि दक्षिण अफ्रीका स्थित राजदूत कार्यालय इस मामले की पूरी मानिटरिंग कर रहा है और इसका फॉलोअप भी भारत सरकार को दे रहा है। राष्ट्रपति से अगर जल्द मंजूरी मिल जाती है तो 15 को चीते यहां लाए जा सकते हैं।
राष्ट्रपति की अनुमति के बाद वहां की सरकार भारत सरकार से अनुबंध करेगी, तब कहीं वहां से चीता लाने का रास्ता साफ होगा। इन औपचारिकताओं के पूरे होने तक मध्य प्रदेश को चीता का इंतजार करना पड़ सकता है। क्योंकि तय कार्यक्रम के अनुसार नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका से चीता एक साथ (एक ही हवाई जहाज से) लाए जाने हैं। ऐसा ट्रांसपोर्टेशन के खर्च को कम करने के लिए किया गया है। मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में स्थित कूनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में चीता बसाए जाने हैं। भारत सरकार ने नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका से चीता लाने का निर्णय लिया है। नामीबिया से अनुबंध हो चुका है, जबकि दक्षिण अफ्रीका से अनुबंध की प्रक्रिया चल रही है। इसके लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान देहरादून के वरिष्ठ वैज्ञानिक वहां की सरकार के लगातार संपर्क में हैं। इस परियोजना से सीधेतौर पर जुड़े अफसरों ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका सरकार ने अनुबंध से पहले अपने राष्ट्रपति की अनुमति मांगी है। इसका प्रस्ताव राष्ट्रपति को भेजा गया है। प्रस्ताव पर कब हस्ताक्षर होंगे, कहा नहीं जा सकता है। यदि हस्ताक्षर में देर हुई, तो चीता लाने में भी देरी होगी। इन अधिकारी का यह भी कहना है कि 15 अगस्त को मध्य प्रदेश चीता पहुंच रहे हैं, इसकी कोई पुष्ट जानकारी उनके पास नहीं है।

cheetah.jpg
पार्क में भी शिफ्टिंग के हालात नहीं
मैदानी वन अधिकारी कहते हैं कि वर्षाकाल के कारण कूनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में भी किसी वन्यजीव को शिफ्ट करने के हालात अभी नहीं हैं। नदी-नालों में पानी है और घास भी काफी बढ़ गई है। चीता के लिए बनाए गए विशेष बाड़े तक पहुंचने वाले रास्ते में काफी कीचड़ भी है। यही कारण है कि विशेष परिस्थितियों को छोड़कर ऐसे मौसम में किसी भी वन्यप्राणी को शिफ्ट करने से बचा जाता है।

आक्टूबर तक जा सकती है तारीख
अगर इसी तरह से बारिश होती रही तो ऐसे में चीतों को यहां लाने की तारीख और आगे बढ़ सकती है। तेज बारिश और नदी-नालों में बाढ़ के कारण कूनों पालपुर में आवागमन कई बार रास्ते बंद हो जाते हैं। लोगों को आने जाने के लिए घूमकर राजस्थान के कोटा की तरफ से आना-जाना करना पड़ता है। चूंकि ये यहां हेलीकाप्टर से आएंगे बारिश और मौसम खराब होने उन्हें यहां उतारना जोखिम भरा काम होगा।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

टेक्नोलॉजी के नए युग का आगाज PM मोदी ने लॉन्च की 5G सर्विस, अब 10 गुना होगी इंटरनेट स्पीडगुजरात : AC और सिलेंडर ब्लास्ट से 4 लोगों की दर्दनाक मौत, 5 घायलसंयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ अमरीका लाया प्रस्ताव, भारत सहित 4 देशों ने नहीं किया मतदानयूक्रेनी क्षेत्रों को रूस में 'विलय' किए जाने की Speech में Putin ने क्यों लिया भारत और चीन का नाम?LPG cylinder price: कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमतों में कमी, घरेलू LPG के दाम में राहत नहींबैक टू बैक 8 ट्वीट कर हर्षा भोगले ने लगा दी इंग्लैंड की क्लास, दीप्ति शर्मा के 'मांकडिंग' को लेकर पढ़ाया कल्चर का पाठत्योहारों के बीच कमरतोड़ महंगाई, 22 फीसदी तक महंगे हुए रोजाना के सामान, जानिए कब मिलेगी राहत...कांग्रेस अध्यक्ष पद के नामांकन की प्रक्रिया हुई पूरी, मल्लिकार्जुन खड़गे, शशि थरूर और केएन त्रिपाठी मैदान में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.