भाजपा ने मांगा मुख्यमंत्री का इस्तीफा, राजभवन तक किया पैदल मार्च

भाजपा ने मांगा मुख्यमंत्री का इस्तीफा, राजभवन तक किया पैदल मार्च

Harish Divekar | Publish: Jan, 08 2019 09:17:32 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

- नेताप्रतिपक्ष बोले अलोकतांत्रिक तरीके से हुआ अध्यक्ष का चयन

 

विधानसभा सत्र के दूसरे ही दिन विपक्षी दल भाजपा को सड़क पर उतरना पड़ गया।

विधानसभा में अध्यक्ष निर्वाचन को लेकर हुए घटनाक्रम के विरोध में भाजपा विधायकों ने सदन की कार्यवाही का बहिष्कार कर दिया।

इसके बाद भाजपा के विधायकों ने नारेबाजी करते हुए विधानसभा से लेकर राजभवन तक पैदल मार्च किया।

सदन में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरोप लगाया कि कांग्रेस दूसरे ही दिन लोकतंत्र की हत्या करके असंवैधानिक तरीके से अध्यक्ष बना रही है।

उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस्तीफे की भी मांग की है।

उन्होंने आरोप लगाया कि एक गैर वरिष्ठ सदस्य को प्रोटेम स्पीकर बनाया ही इसीलिए गया था ताकि वे सरकार की इच्छा के आदेश आसंदी दे सकें।

 

 

गर्भगृह से बाहर आने के बाद पहले पूर्व शिवराज सिंह चौहान, गोपाल भार्गव और भाजपा के कुछ वरिष्ठ विधायकों ने नेता प्रतिपक्ष के कक्ष में आगामी रणनीति पर विचार किया। उसके बाद विधानसभा भवन के बाहर गांधी प्रतिमा पर पहुंचकर नारेबाजी करते हुए वहां से पैदल राजभवन के लिए रवाना हुए।

भाजपा ने राज्यपाल के अभिभाषण का भी बहिष्कार किया। ज्ञापन सौंपने के बाद गोपाल भार्गव ने कहा कि उन्हें राज्यपाल ने विधि सम्मत निर्णय लेने का भरोसा दिलाया है।

यह है ज्ञापन में-
भाजपा ने ज्ञापन में आरोप लगाया कि सोमवार की कार्यसूची में अध्यक्ष निर्वाचन के लिए पांच प्रस्ताव थे। लेकिन प्रोटेम स्पीकर दीपक सक्सेना ने शुरू के चार प्रस्ताव ही पढ़े जो कि एनपी प्रजापति के नाम से थे। विजय शाह के नाम का पांचवा प्रस्ताव पढ़ा और कार्रवाई आगे बढ़ा दी।

 

कोर्ट जा सकती है भाजपा-
राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को ज्ञापन सौंपने के बाद नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि भाजपा इस मामले में विधि विशेषज्ञों से सलाह ले रही है। जरूरत पडऩे पर विधानसभा अध्यक्ष के निर्णय के खिलाफ कोर्ट भी जा जा सकता है।

उपाध्यक्ष पद को लेकर बनाई रणनीति-
मंगलवार शाम भाजपा के वरिष्ठ विधायक पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के बंगले पर जुटे। इस बैठक में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, विश्वास सारंग, भूपेंद्र सिंह, सीताशरण शर्मा शामिल थे। अध्यक्ष पद को कांग्रेस के कदम के बाद अब भाजपा उपाध्यक्ष पद को लेकर मंथन में जुट गई है। पार्टी यह निर्णय नहीं ले पा रही है कि अब उपाध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार खड़ा किया जाए या नहीं। अध्यक्ष पद को लेकर भी शिवराज ने चुनाव नहीं लडऩे की सलाह दी थी। लेकिन हाईकमान के बाद संगठन ने यह कदम उठाया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned