scriptChildren are most at risk in the third wave, these situations warn | तीसरी लहर में बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा, सामने आई हकीकत | Patrika News

तीसरी लहर में बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा, सामने आई हकीकत

ओमिक्रॉन की आहट के साथ अब तीसरी लहर की आशंका और बढ़ रही है।

 

भोपाल

Published: December 02, 2021 09:42:13 am

भोपाल. ओमिक्रॉन की आहट के साथ अब तीसरी लहर की आशंका और बढ़ रही है। तमाम विशेषज्ञ तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने का अंदेशा जता रहे हैं। सरकार भी तीसरी लहर से मजबूती से निपटने का दावा कर रही है। लेकिन हकीकत यह है कि राजधानी में बच्चों को कोरोना से बचाने के पर्याप्त इंतजाम नहीं हैं। ऐसे में उनपर खतरा सबसे ज्यादा है. पत्रिका रियलिटी चैक में यह बात सामने आई कि तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने पर बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है। बच्चों के लिए सिर्फ 32 पीडियाट्रिक वेंटिलेटर हैं और 703 बेड रिजर्व हैं। इनमें से 452 आइसीयू में और 251 ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड हैं।

prabhuram_choudhary.jpg

दो अस्पतालों में बच्चों का आइसीयू तैयार नहीं
हमीदिया: दूसरी लहर के दौरान हमीदिया अस्पताल में बच्चों का नया आइसीयू बनाने का दावा किया गया था। संक्रमण कम होने के बावजूद काम रुक गया। स्थिति यह है कि नए आइसीयू में पलंग तक नहीं रखे गए हैं। दो महीने से पहले शुरू होने के आसार नहीं।
काटजू: अस्पताल का भवन भी तैयार हो चुका है, लेकिन अब तक पीडियाट्रिक आइसीयू तैयार नहीं हो सका। तीसरी लहर में बच्चे संक्रमित होते हैं तो दिक्कत बढ़ेगी।

Must Read- ‘असली हीरो’ - बाइक पर जबरन बैठाते देख बदमाशों से अकेले भिड़ गए, नाबालिग को बचाया

asptal.jpg

कोरोना संक्रमण को देखते हुए विभाग ने सभी अस्पतालों में कोविड की तैयारियां रखने के निर्देश किए हैं। सार्थक पोर्टल पर अपलोड जानकारी के मुताबिक शहर में कोरोना मरीजों के लिए 4135 बेड रिजर्व किए गए हैं। वहीं करीब एक हजार बेड अतिरिक्त व्यवस्था कर गई है। वर्तमान हालातों को देखते हुए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने जेपी अस्पताल में तैयारियों का जायजा भी लिया.

कहां कैसे हालात
- राजधानी में सिर्फ 32 पीडियाट्रिक वेंटिलेटर हैं, जबकि बच्चों के लिए 703 बेड रिजर्व हैं।
- बच्चों के लिए 458 आइसीयू बेड हैं, जबकि 251 ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड हैं।
- एम्स, हमीदिया हॉस्पिटल में 1403 मरीज एक समय में भर्ती होकर इलाज करा सकेंगे। इन अस्पतालों में नए कोविड वार्ड मरीजों की संख्या बढऩे पर शुरू किए जाएंगे।
- हमीदिया, एम्स में कोविड मरीजों के लिए अलग से वार्ड बनवाए हैं।
- सरकारी होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज में 33 बेड रिजर्व किए गए हैं। यहां कोविड केयर सेंटर बनाया है, जिसमें बिना लक्षण वाले मरीजों को रखा जाएगा।

शहर में कोरोना की स्थिति
13 कुल मरीज भर्ती हैं शहर में
08 चिरायु अस्पताल में भर्ती हैं
04 जेपी व एक आर्मी अस्पताल में
ये है तैयारी
1403 मरीज एम्स, हमीदिया हॉस्पिटल में एक समय में भर्ती होकर इलाज करा सकेंगे।
458 आइसीयू बेड बच्चों के लिए जबकि 251 ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड हैं।
33 बेड सरकारी होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज में रिजर्व किए गए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.