कहीं आपका बच्चा भी तो नहीं है मोबाइल का शौकीन - डांटने से पहले जरूर पढ़ें यह खबर

जरा सी रोकटोक भी भारी लगने लगती है, ऐसे ही कुछ मामले शहर में हुए हैं।

By: Subodh Tripathi

Published: 11 Oct 2021, 12:48 PM IST

भोपाल. बच्चे शोर या मस्ती नहीं करें इसलिए कुछ लोग उन्हें मोबाइल थमा देते हैं, ऐसे में शुरूआत में तो ठीक लगता है, लेकिन धीरे-धीरे बच्चा मोबाइल का इतना आदि हो जाता है, फिर उसे जरा सी रोकटोक भी भारी लगने लगती है, ऐसे ही कुछ मामले शहर में हुए हैं। जिसमें बच्चों ने अपनी जान तक दे दी है, ऐसे में आप जहां तक हो सके बच्चों को मोबाइल से दूर ही रखें।

कोरोना संक्रमण काल, लॉकडाउन और बदलते परिवेश के तमाम तनावों का असर बड़ों के साथ-साथ बच्चों पर भी दिख रहा है। बच्चों को छोटी-छोटी बात पर न केवल ठेस लग रही है। बल्कि वे जरा सी डांट-फटकार और मन की बातें पूरी नहीं होने पर जान तक दे रहे हैं। बच्चों की बदलती मानसिकता से कैसे सतर्क रहें, कहीं आपके बच्चे तो आत्मघाती प्रवृत्ति की ओर नहीं बढ़ रहे हैं।

मोबाइल रिचार्ज नहीं करने पर दी जान
केस १. राजधानी के जवाहर चौक में चार महीने पहले 15 साल के किशोर ने फंदा लगाकर जान दे दी। कारण सामने आया कि किशोर मोबाइल चलाता था, और पूरे समय सोशल मीडिया उपयोग करने के साथ दोस्तों से बात करता रहता था। सबक देने के लिए मां ने मोबाइल रिजार्च नहीं कराया तो किशोर ने जान ही दे दी।

अचानक लगा ली फांसी

अरेरा हिल्स थाना क्षेत्र में नवीं कक्षा के विद्यार्थी ने घर पर फंदा लगाकर जान दे दी। किशोर पढ़ाई में होशियार था और मोबाइल पर भी ज्यादा समय नहीं बिताता था। शांत से दिख रहे किशोर ने मां के ड्यूटी पर जाते ही फंदा लगा लिया। किशोर कुछ दिनों से गुमसुम था, सुसाइड नोट नहीं मिलने के कारण आत्महत्या के कारणों का पता परिजनों को भी नहीं चल सका।

दशहरे पर भाजपा का मेगा शो, कांग्रेस को भीतरघात का खतरा-प्रबुद्धजनों से करेगी चर्चा

खाते से निकाल भेजे 50 हजार
शाहपुरा में 14 साल के किशोर ने दोस्त के साथ गेम खेलते हुए अपने दादा के खाते से 50 हजार रुपए निकालकर भेज दिए। जब परिजनों को पता चला तो उन्होंने बेटे व दोस्त को भी डांटा और शिकायत की बात कहकर धमकाया। पड़ोसी आंटी का डांटना इतना बुरा लगा कि 14 साल के ब'चों ने घर पर फंदा लगा लिया।

Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned