MP के इस स्थान पर हनुमानजी खुद लगाते हैं दरबार, बंदरों को खाना खिलाने पर पूरी होती है मुराद

praveen shrivastava

Publish: Nov, 14 2017 06:02:37 (IST)

Raisen, Madhya Pradesh, India
MP के इस स्थान पर हनुमानजी खुद लगाते हैं दरबार, बंदरों को खाना खिलाने पर पूरी होती है मुराद

मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एक अनोखा स्थान है, जहां माना जाता है कि हनुमानजी अदृश्य रूप में विराजमान रहते हैं और...।


रायसेन। मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में एक अनोखा स्थान है, जहां माना जाता है कि हनुमानजी अदृश्य रूप में विराजमान रहते हैं और दरबार लगाते हैं। नेशनल हाईवे पर बंदर घाटी के नाम से प्रसिद्ध इस स्थान पर हजारों बंदरों के प्रति लोगों की आस्था है। ग्राम डाम डोंगरी और बिनेका के बीच इस स्थान पर वाहन चालक सिर्फ इसलिए रुकते हैं कि हनुमानजी का स्मरण कर यहां बंदरों को केले और चने-चिरोंजी खिला सके। मंगलवार को इस स्थान पर श्रद्धालुओं की इतनी संख्या हो जाती है कि बंदर घाटी पर जाम लग जाता है।

 

श्रद्धालुओं को घेर लेते हैं सैकड़ों बंदर
रायसेन जिले के बरेली में स्थित प्रसिद्ध छींद हनुमान मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार को भक्तों का मेला लगता है। ऐसे में दूर-दूर से लोग बरेली जाते हैं। इसी रास्ते पर बंदर घाटी पर हजारों की तादाद में बंदर रहते हैं। यहां लोग अक्सर बंदरों को केले, चने और चिरोंजी खिलाते हैं। यहां चने खिलाने वालों को सैकड़ों बंदर घेर लेते हैं। खासबात यह है कि कोई भी बंदर किसी श्रद्धालु को परेशान नहीं करता है।

 

भक्तों ने बनवा दिया यहां मंदिर
डाम डूंगरी के ही कामता प्रसाद शर्मा ने यहां भगवान हनुमान का एक छोटा सा मंदिर बना लिया। अब यहां आने वाले लोग बंदरों को तो दाना डालते ही हैं, उनकी आस्था इस मंदिर से भी जुड़ गई है। लोग भगवान हनुमान के प्रतिनिधि के रूप में बंदरों की सेवा करते हैं। उन्हें दाना डालते हैं और यहीं बने मंदिर में पूजा-अर्चना भी करते हैं।

 

आशीर्वाद लेने आते हैं
एक राहगीर अमित मिश्रा का कहना है कि डाम डोंगरी के पास इस स्थान पर वर्षों पहले एक व्यक्ति ने बंदरों को दाना डालने का काम शुरू किया था। बताया जाता है कि हनुमानजी ने उसकी परेशानी दूर कर दी और वो साधन-संपन्न हो गया। तभी से यह क्रम धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। इसलिए हम भी हनुमानजी से आशीर्वाद लेने जरूर आते हैं।

 

दरबार लगाते हैं हनुमानजी
मंदिर के पुजारी तुषार कपूर शर्मा बताते हैं कि लोगों की ही श्रद्धा है कि यहां मंदिर बनाया गया है। शर्मा कहते हैं कि बंदर घाटी पर अदृश्य रूप से हनुमानजी का वास है। पुराने लोग भी मानते हैं कि यहां बंदरों की इतनी तादात है, मानो हनुमानजी यहां दरबार लगाकर बैठे हुए हैं।

 

दो दिन रहती है ज्यादा भीड़
मंगलवार और शनिवार को यहां कुछ ज्यादा ही लोग पहुंचते हैं। भोपाल, औबेदुल्लागंज, मंडीदीप, सीहोर आदि क्षेत्रों से मंगलवार को बरेली के पास स्थित प्रसिद्ध मंदिर जाने वाले लोग इस बंदर घाट पर रुककर बंदरों को दाना डालना नहीं भूलते। इस तरह डाम डोंगरी का यह बंदर घाटी रायसेन के अलावा सीहोर होशंगाबाद सहित अन्य जिलों में भी चर्चित हो गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned