scriptClass 5th and 8th examination will be on board pattern | पांचवीं-आठवीं की परीक्षा इसी सत्र से होगी बोर्ड | Patrika News

पांचवीं-आठवीं की परीक्षा इसी सत्र से होगी बोर्ड

पांचवीं और आठवीं बोर्ड हुआ करती थीं, पिछले सालों में इन्हें खत्म कर दिया गया। इसी सत्र से फिर से इन्हें बहाल किया गया है। अब इन कक्षाओं की परीक्षाएं बोर्ड स्तर पर होंगी।

भोपाल

Published: December 18, 2021 09:33:24 am

भोपाल. राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत बोर्ड रिफॉम्र्स एंड असेसमेंट विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार का दूसरा दिन पूर्व प्राथमिक और प्राथमिक शिक्षा प्रणाली के नाम रहा। शुक्रवार को समापन सत्र में स्कूल शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) इंदर सिंह परमार ने घोषणा की, पांचवीं और आठवीं बोर्ड हुआ करती थीं, पिछले सालों में इन्हें खत्म कर दिया गया। इसी सत्र से फिर से इन्हें बहाल किया गया है। अब इन कक्षाओं की परीक्षाएं बोर्ड स्तर पर होंगी। व्यापक तैयारी की जा चुकी है। शिक्षाविदों ने प्राथमिक शिक्षा के बिंदुओं और सावधानी पर सुझाव दिए।

पांचवीं-आठवीं की परीक्षा इसी सत्र से होगी बोर्ड
पांचवीं-आठवीं की परीक्षा इसी सत्र से होगी बोर्ड

मंत्री परमार ने नई शिक्षा नीति भारत को विश्व का सिरमौर बनाने की दिशा में आजादी के बाद उठाया गया सबसे महत्वपूर्ण कदम बताया। मातृभाषा में अध्ययन और अध्यापन की आवश्यकता बताई। प्रदेश में 5३ विश्व-स्तरीय स्कूल बनाए जा रहे हैं। शिक्षा की गुणवत्ता में व्यापक सुधार के लिए ३50 सीएम राइज स्कूल की स्थापना की जा रही है।

मध्यप्रदेश में ओबीसी सीटों पर पंचायत चुनाव स्थगित

महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान के अध्यक्ष भरत बैरागी ने कहा कि शिक्षा रोजगारोन्मुखी हो, इस दिशा में काम करना होगा। माशिमं की अध्यक्ष रश्मि अरुण शमी ने कहा कि कार्यशाला के विषय पर एकरूपता लाने दिए सुझाव से नीति निर्धारण में सहायता मिलेगी।

अब तो सावधानी बहुत जरूरी-एमपी में हर घंटे एक को कोरोना

यह आए सुझाव
दिल्ली की डॉ. जयश्री ओझा ने कहा कि बुनियादी साक्षरता, संख्या ज्ञान और सहज ढंग से मूल्यांकन परध्यान दिया जाए।

बेंगलूरु से ऑनलाइन जुड़े एजुकेशनल इनिशिएटिव इंडिया संस्था के प्रमुख कार्यकारी अधिकारी श्रीधर रागोपालन ने कहा, बच्चों के पाठ्यक्रम में उदाहरण सैद्धांतिक के बजाय प्रत्यक्ष वाले होने चाहिए।

राज्य शिक्षा केंद्र के संचालक धनराजू एस. ने कहा, सीनियर क्लास के छात्रों का असेसमेंट करना आसान है लेकिन प्राथमिक कक्षाओं के लिए जटिल,इसलिए सर्वमान्य प्रणाली विकसित करनी होगी।

द एजुकेशन अलाइंस संस्था के प्रमुख अमिताभ विरमानी ने कहा कि प्राथमिक स्तर से ही बुनियाद इतनी मजबूत की जाए कि जो बच्चे मार्केट में जाएं, वे कुशल हों।

सीएसएसएल की वैजयंती शंकर बोलीं- आपको अगर बच्चों का पाठ्यक्रम बनाना है तो संवेदनशीलता के साथ करना होगा। मप्र के 47% बच्चे यह नहीं समझते कि वे याद कर सकते हैं।

एजुकेशनल इनीशिएटिव इंडिया के उपाध्यक्ष निश्चल शुक्ला ने रूपांतरण मूल्यांकन और शिक्षा शास्त्र विषय पर प्रेजेंटेशन दिया।

एनसीईआरटी में एलिमेंट्री एजुकेशन विभाग के एचओडी डॉ. अनूप कुमार राजपूत ने कहा, स्कूल में पढ़ा गया जीवभर काम आए, ऐसी नीति अब बनानी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.