72 घंटे में 5.6 डिग्री गिरा पारा, धुंध और बादलों की मौजूदगी में बूंदाबांदी में सर्द हवाओं ने दिखाया असर

-कम दबाव के क्षेत्र के ओमान की ओर रुख करने से बादल होंगे विदा, मंगलवार से तापमान में और होगी गिरावट

-रविवार सुबह से बादलों का रहा डेरा, शाम को हुई बूंदाबांदी

भोपाल. बादलों का जमघट और धुंध के बीच रुक-रुककर हुई बूंदाबांदी ने रविवार को राजधानी के मौसम को किसी हिल स्टेशन की तरह कर दिया। सुबह से छाए बादलों की आवाजाही दिनभर जारी रही और दिन में शहर के कई हिस्सों में बूंदाबांदी हुई। सर्द हवाओं के जोर से शनिवार की तुलना में अधिकतम तापमान में 0.4 डिग्री की गिरावट हुई। इस तरह पिछले 72 घंटों में पारा 5.6 डिग्री गिरा है। इससे राजधानी में सर्दी जोर पकडऩे लगी है। बूंदाबांदी के साथ चलीं सर्द हवाओं ने राजधानीवासियों को कंपकंपा दिया। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार अरब सागर में बने जिस कम दबाव के क्षेत्र के असर से प्रदेश के कई हिस्सों सहित भोपाल में मौसम में बदलाव हुआ है। कम दबाव का ये क्षेत्र अब ओमान की ओर रुख कर रहा है। इससे सोमवार से बादलों का असर कम होना शुरू होगा। मंगलवार को मौसम सामान्य होगा। हालांकि इसके बाद तापमान में गिरावट आएगी और सर्दी का जोर बढ़ेगा।
दिवाली के पहले ही सर्दी की दस्तक

इस बार दिवाली के पहले ही सर्द हवाओं ने राजधानी में दस्तक दी है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अरब सागर में बने कम दबाव के क्षेत्र और बंगाल की खाड़ी में कम दबाव के क्षेत्रों की श्रृखंला से महाराष्ट्र में बारिश हो रही है। इसका असर मप्र पर पड़ा है। इसी तरह प्रदेश से होकर गुजर रही द्रोणिका से अरब सागर की नमी आ रही है। बादलों की मौजूदगी के कारण तापमान में कमी दर्ज की गई है।
72 घंटे में 5.6 डिग्री कम हुआ तापमान

बादलों की मौजूदगी और सर्द हवाओं के तापमान में गिरावट का दौर रविवार को भी जारी रहा। हालांकि शनिवार की तुलना में इसमें 0.4 डिग्री की कमी हुई, पर 72 घंटों में 5.6 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 31.1 डिग्री था, जो शनिवार को 25.9 डिग्री पर आ गया था। रविवार को अधिकतम तापमान 25.5 डिग्री रहा। हालांकि बादलों के कारण न्यूनतम तापमान स्थिर बना हुआ है। रविवार को ये 21.6 डिग्री रहा, जो सामान्य से 3.5 डिग्री अधिक था।

घट रही दृश्यता

धुंध बढऩे से दृश्यता दिनोंदिन कम हो रही है। सामान्यत: पांच से सात किमी रहने वाली दृश्यता रविवार को 1200 मीटर रह गई। दिन में सामान्य स्तर पर पहुंचने के बाद शाम को बादल छाने से इसमें फिर गिरावट हुई और ये 2500 मीटर तक आ गई। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि मंगलवार से मौसम खुलने के साथ ही तापमान में गिरावट आएगी और कोहरे के कारण सुबह-शाम दृश्यता कम होगी।
बादल छंटते ही बढ़ेगी सर्दी

मौसम विशेषज्ञ एके नायक बताते हैं कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र 4.5 किमी की ऊंचाई तक है। इस कम दबाव के क्षेत्र से कर्नाटक और तेलंगाना होती हुई एक द्रोणिका विदर्भ क्षेत्र तक जा रही है। इसका विस्तार समुद्र तल से 2.1 किमी ऊपर तक है। इसके असर से मप्र में बूंदाबांदी की स्थिति बन रही है। इसे मावठे की बारिश कह सकते हैं। कम दबाव का क्षेत्र ओमान की ओर रुख कर रहा है, इससे मंगलवार से बादल छंटते ही तापमान में और गिरावट आएगी और सर्द हवाओं का असर बढ़ेगा।

manish kushwah
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned