फिर बस का किराया बढ़ाने आवाज बुलंद, मंत्री गोविंद बोले- सीएम करेंगे फैसला, पर बिना मास्क यात्री मिले तो होगी सख्त कार्रवाई


------------------------
- बैठक में मंथन : बस संचालक वापस अड़े, छह महीने का टैक्स माफ करने व किराया बढ़ाने की मांग
------------------------

भोपाल। प्रदेश में बसों के संचालन को लेकर एक बार फिर किराये में बढ़ोत्तरी की आवाज बुलंद होने लगी है। बस संचालक कोरोना के पहले लॉकडाउन से ही किराया बढ़ाने व टैक्स माफी पर अड़े हैं। इस पर राज्य मंत्रालय में मंगलवार को परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने प्रदेशभर के बस संचालक संगठनों को बुलाकर बैठक की। बैठक में बस संचालकों 6 महीने का टैक्स माफ करने और किराये में डीजल के अनुपात की बढ़ोत्तरी की मांग रख दी। इस पर मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि सीएम शिवराज सिंह चौहान के स्तर पर ही इसका निर्णय होगा। जल्द उनसे बात करके आगे कदम उठाएंगे। तब तक बसों के संचालन का सुचारू रखने और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश दिए। गोविंद ने यह भी कहा कि बस में कोई भी यात्री बिना मास्क न बैठाया जाए। इसका सख्ती से पालन किया जाए। इसमें शिकायत नहीं मिलना चाहिए। यदि यात्री बिना मास्क यात्रा करते पाए गए, तो सम्बंधित बस ऑपरेटरों के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। किराया जितना उचित होगा, उतना रखने पर विचार किया जाएगा।
-------------------------
सारे अफसरों को बुलाया-
खास ये कि इसमें पीएस एसएन मिश्रा व आयुक्त मुकेश जैन सहित अन्य सभी अफसरों को भी बुलाया गया। अफसरों व बस संचालकों ने विभिन्न मुद्दों पर अपने तर्क भी रखे। यह भी तय किया गया कि दूसरे राज्यों की स्थिति को भी देखा जाए। साथ ही कोराना काल में आम लोगों पर आर्थिक बोझ न आए इस तरह से निर्णय किया जाए। दरअसल, बस संचालक किराया वृद्धि व टैक्स माफी को लेकर वापस हड़ताल का रूख करने की तैयारी कर रहे हैं, इस कारण यह बैठक बुलाई गई।
---------------------------
ऑपरेटर संगठनों से ये पहुंचे-
जयकुमार जैन महामंत्री मध्यप्रदेश बस आपरेटर एसोसिएशन, राकेश फौजदार उपाध्यक्ष मध्यप्रदेश बस आपरेटर एसोसिएशन, सुरेंद्र तनवानी भोपाल संभाग प्रभारी बस एसोसिएशन, शिवकुमार शर्मा उज्जैन संभाग प्रभारी, नरेंद्र बुंदेला अध्यक्ष धार जिला बस आपरेटर एसोसिएशन, रोहित पाण्डे बस ऑपरेटर सागर, मंगल सिंह बस आपरेटर बुधनी आदि।
-----------------------
ये प्रमुख मांगे रखी-
- कोरोना के चलते बसों का 6 माह का कर माफ किया जाए
- के फार्म पर नान यूज फीस 100 रुपए की जाए
- डीजल के रेट के अनुपात में बस किराये में वृद्धि की जाए
- बस संचालकों पर चेकिंग के नाम पर बेवजह कार्रवाई न हो
------------------------

जीतेन्द्र चौरसिया Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned