scriptcm shivraj singh | शिवराज बोले- भारत में प्रकृति के शोषण नहीं, दोहन का दर्शन | Patrika News

शिवराज बोले- भारत में प्रकृति के शोषण नहीं, दोहन का दर्शन

विज्ञान यात्रा से स्थानीय प्रतिभाओं को पहचानने में मिलेगी मदद
म.प्र. केंद्रित परम्परागत ज्ञान-विज्ञान, टेक्नोलॉजी को वर्तमान संदर्भों में किया जाएगा प्रोत्साहित
स्वतंत्रता आंदोलन में भारतीय विज्ञान और वैज्ञानिकों के योगदान का स्मरण आवश्यक
सम्मेलन के निष्कर्षों के क्रियान्वयन के लिए गठित की जाएगी विशेष टीम

भोपाल

Published: December 22, 2021 09:57:55 pm

---------------
भोपाल। भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमें वैज्ञानिक विकास से उत्पन्न परिस्थितियों को भी समझना होगा। कोरोना पर स्थिति हमारे सामने हैं, इसके साथ कैंसर एक्सप्रेस की बातें भी सुनाई दे रही हैं। भारत में प्रकृति के शोषण के स्थान पर प्रकृति के दोहन का दर्शन था। प्रदेश में स्व-सहायता समूहों में काम कर रही महिलाओं को यदि थोड़ा विज्ञान और तकनीक का सहयोग मिल जाए, तो उनके उत्पाद बेहतर हो सकते हैं। उत्पादों की उपयोगिता और गुणवत्ता में सुधार आ सकता है।
------------
यह बात शिवराज ने बुधवार को मध्यप्रदेश विज्ञान सम्मेलन एवं प्रदर्शनी का मंत्रालय से वचुर्अल तरीके से उद्घाटन करते हुए कही। यहां शिवराज ने कहा कि यह सम्मेलन आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोड मेप बनाने में मील का पत्थर साबित होगा। धर्म और विज्ञान एक दूसरे का समर्थन करते हैं। मंत्र भी एक विज्ञान है, ध्वनि ऊर्जा है और ऊर्जा कभी नष्ट नहीं होती। मंत्रों के चमत्कार विज्ञान ने सिद्ध किए हैं। भारत ने खगोल विज्ञान, गणित आदि में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ब्रह्मगुप्त, वराहमिहिर, भास्कराचार्य जैसे प्रसिद्ध गणितज्ञ हमारे यहाँ हुए हैं। शून्य का आविष्कार भी भारत में हुआ। गणित और विज्ञान में भारत का महत्वपूर्ण योगदान है। भारत खगोल विज्ञान, गणित और आध्यात्म के क्षेत्र में लगातार आगे रहा है। विज्ञान के सहयोग से प्रदेश में अपार संपदा का उपयोग कर हम रोजगार के अवसर सृजित कर सकते हैं। सीएम राइज स्कूल में सभी विषयों के साथ विज्ञान के अध्ययन के लिए भी समुचित व्यवस्था रहेगी। शिवराज ने कहा कि कृषि के मामले में हमें परिस्थितियों पर विचार करने की आवश्यकता है। रासायनिक खाद ने हमारे अन्न और सब्जियों को विषाक्त कर दिया है। परिणामस्वरूप ऑर्गेनिक खेती की बात हो रही है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लेशियर पिघल रहे हैं, इससे समुद्र का जल-स्तर तो बढ़ेगा ही साथ ही नदियाँ भी प्रभावित होंगी। केवल तकनीक ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण भी महत्वपूर्ण है। भारत में प्रकृति पूजा वैज्ञानिक दृष्टिकोण का परिणाम थी।
-------------------------------
shivraj-singh-chouhan-.jpg
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इस विज्ञान सम्मेलन और विज्ञान प्रदर्शनी से आगे का मार्ग प्रशस्त होगा। कार्यक्रम में 12 शासकीय और अशासकीय शिक्षण संस्थाएँ जुड़ी हैं। शैक्षणिक, तकनीकी और वैज्ञानिक संस्थाओं को मिलकर देश की उन्नति की दिशा में कार्य करने का अवसर मिलेगा। मध्यप्रदेश केंद्रित परंपरागत ज्ञान-विज्ञान और टेक्नोलॉजी को आधुनिक संदर्भों में प्रोत्साहित किया जाएगा। स्वतंत्रता आंदोलन में भारतीय विज्ञान और वैज्ञानिकों के योगदान का भी स्मरण किया जाएगा। खेल कूद और विज्ञान, संगीत और विज्ञान, पर्यटन और विज्ञान ऐसे विषय हैं जिन पर कम चर्चा होती है। रोजगार सृजन की दृष्टि से विज्ञान और तकनीक के आधार पर बहुत बड़ा काम किया जा सकता है। इस संदर्भ में भी सम्मेलन में चर्चा होगी।
मुख्यमंत्री चौहान ने विज्ञान भारती मालवा टीम को बधाई देते हुए कहा कि इस आयोजन से जो निष्कर्ष निकलेंगे उनके क्रियान्वयन के लिए वैज्ञानिकों, टेक्नोक्रेट्स और अधिकारियों की एक टीम बनाई जाएगी। यह टीम राज्य सरकार को निरंतर सलाह देगी ताकि विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में प्रदेश निरंतर प्रगति कर सके‍। विज्ञान और तकनीक के माध्यम से लोगों के जीवन को बेहतर बनाया जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.