scriptcm shivraj singh | बिजली-खाद पर हंगामा, विपक्ष ने किया दो बार वॉकआउट | Patrika News

बिजली-खाद पर हंगामा, विपक्ष ने किया दो बार वॉकआउट

locationभोपालPublished: Dec 22, 2021 09:59:38 pm

-------------------
- बढ़ते बिजली बिलों पर सरकार को घेरा, खाद की किल्लत पर भी जमकर हंगामा
--------------------

mp vidhansabha
,,mp vidhansabha

भोपाल। विधानसभा के शीतकालीन सत्र में बुधवार को बिजली और खाद पर जमकर हंगामा हुआ। मनमाने बिजली बिल आने के मुद्दे पर कांग्रेस विधायकों ने सत्ता पक्ष को घेरा। सत्ता पक्ष के जवाब से असंतुष्ट होकर विपक्ष ने वॉकआउट भी कर दिया। इसके बाद खाद की किल्लत को लेकर भी पक्ष और विपक्ष में जमकर जुबानी तकरार हुई। बसपा विधायक रामबाई अमानक खाद वाली कंपनियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर मुखर हुई, तो जमकर हंगामा हुआ, जिस पर विपक्ष ने फिर वॉकआउट कर दिया। इस तरह दो बार वॉकआउट हुआ।
---------------------
पहला वॉकआउट बिजली पर
विधानसभा में कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा, कमलेश्वर पटेल और आरिफ अकील ने ध्यानाकर्षण के जरिए मनमाने बिजली बिल आने का मुद्दा उठाया। इसी पर हंगामा हुआ। पीसी ने कहा कि सीएम ने कोरोना काल के बिजली माफ करने की घोषणा की थी, इस पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्र सिंह तोमर ने कहा कि बिल माफ की कोई घोषणा नहीं की गई। हमने सिर्फ कोरोना काल में एकमुश्त बिल जमा करने पर चालीस फीसदी और किस्त में जमा करने पर पच्चीस फीसदी राशि माफ की थी। पीसी ने कहा कि कमलनाथ सरकार के समय सौ रुपए में सौ यूनिट बिजली देते थे, लेकिन अब 1 लाख 22 हजार और 58 हजार के बिल आ रहे हैं। ये बिल भी सदन में लहराए गए। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि हमें बिल दे दें हम जांच करा लेंगे। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि एक करोड १९ लाख बिजली उपभोक्ता हैं। इनमें से एक करोड का सौ यूनिट सौ रुपए में बिजली दे रहे हैं। कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने राजस्थान का हवाला देकर बिल माफ करने की बात कही, तो ऊर्जा मंत्री ने राजस्थान सीएम व प्रियंका गांधी को लेकर टिप्पणी कर दी, जिस पर हंगामा मच गया। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने टिप्पणी को विलोपित करा दिया। इस बीच कमलेश्वर पटेल ने कहा कि वसूली अभियान चला रखा है, इसे रोकिए। इस बीच प्रियव्रत सिंह, जीतू पटवारी, लक्ष्मण सिंह, शशांक भार्गव सहित अन्य विधायकों ने सवाल उठाए। इस दौरान हंगामा होता रहा। तब, कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह ने बिजली बिल माफ न होने पर वॉकआउट का ऐलान कर दिया। इसके बाद सारे कांग्रेस विधायक पहले नारेबाजी करते गर्भगह में उतरे फिर बाहर चले गए।
---------------------
यूं दूसरा वॉकआउट खाद पर-
प्रदेश में खाद की कमी को लेकर कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह, सतीश सिकरवार और आरिफ अकील का ध्यानाकर्षण आया। इस पर गोविंद सिंह ने कहा कि सदन मं ही लिखित उत्तर में खाद की कमी को स्वीकार किया है, तो इसे मानते क्यों नहीं। जवाब में कषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि खाद की कोई कमी नहीं है। हमने ७० फीसदी खाद सोसायटियों को दे दिया है। इस पर फिर हंगामा शुरू हो गया। बसपा विधायक रामबाई ने कहा कि गलत आंकडे पेश किए जा रहे हैं। हमें जवाब चाहिए। इसके बाद हंगामा बढता गया। विधानसभा अध्यक्ष ने रामबाई को चुप कराना चाहा, तो रामबाई ने कहा कि माइक बंद करने से हमारी आवाज बंद नहीं हो जाएगी। रामबाई ने जमकर आरोप लगाए। विस अध्यक्ष ने कहा कि ध्यानाकर्षण लगाओ तब बोलना, इस पर रामबाई ने कहा कि ध्यानाकर्षण लगाने पर भी कोई सुनवाई नहीं होती। अमानक खाद वाली कंपनियों पर क्या कार्रवाई की गई यह बताओ। रामबाई के अलावा कांग्रेस विधायक भी इस दौरान जमकर हंगामा करते रहे। इस बीच जीतू पटवारी ने आरोप लगाए, तो कमल पटेल और उनके बीच तकरार शुरू हो गई। अध्यक्ष ने रामबाई को बोलने का मौका दिया, तो फिर बहस बढ गई। रामबाई ने कहा कि आनलाइन गलत आकडे मत दो, मुझे सत्य चाहिए यूं रामायण मत सुनाओ। दूसरे विधायकों की तरह मैं नहीं हूं। इसके बाद लगातार विवाद बढता गया, तो कांग्रेस विधायकों ने वॉकआउट कर दिया।
---------------------
Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.