scriptcm shivraj singh | देश के अर्थशास्त्री जुटे भोपाल में, संगोष्ठी देगी अर्थ-व्यवस्था को नई दिशा | Patrika News

देश के अर्थशास्त्री जुटे भोपाल में, संगोष्ठी देगी अर्थ-व्यवस्था को नई दिशा

कृति-संरक्षण के भाव के साथ अर्थ-व्यवस्था को मजबूत बनाने की विधियों पर कार्य करें - मुख्यमंत्री
मध्यप्रदेश की अर्थ-नीति के निर्धारण में महत्वपूर्ण होंगे अर्थशास्त्रियों के विचार
मध्यप्रदेश अब बीमारु नहीं सुचारु राज्य - प्रो. रमेश चंद्र
मुख्यमंत्री ने किया इंडियन इकॉनामिक एसोसिएशन के तीन दिवसीय वार्षिक अधिवेशन का शुभारंभ

भोपाल

Published: December 25, 2021 08:07:13 pm

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अर्थ-व्यवस्था के विभिन्न आयाम और‍निर्धनों की जिंदगी में विकास की रोशनी पहुँचाने और प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि की दृष्टि से भोपाल में हो रही तीन दिवसीय संगोष्ठी महत्वपूर्ण सिद्ध होगी। संगोष्ठी में हिस्सेदारी कर रहे ख्यात अर्थशास्त्रियों के उपाय देश के साथ ही मध्यप्रदेश की अर्थ-नीति के निर्धारण में भी उपयेागी होंगे। संगोष्ठी में अर्थ-व्यवस्था के विभिन्न आयाम पर चर्चा होगी। विचार- विमर्श के सत्र होंगे। पर्यटन, उद्योग, कृषि, सेवा और पर्यावरण के समावेशी विकास के लिए और नवीन प्रकल्प के संचालन में संगोष्ठी सहायक सिद्ध होगी। चिंतन, मंथन के बाद निकले अमृत का लाभ निश्चित ही मध्यप्रदेश को भी मिलेगा।
Chief Minister Shivraj Singh Chouhan Jandarshan Yatra in Jhirnya
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान
मुख्यमंत्री चौहान आरसीवीपी नरोन्हा प्रशासन अकादमी के स्वर्ण जयंती सभाकक्ष में इंडियन इकोनामी एसोसिएशन (आय.ई.ए.) के 104वें राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने आमंत्रित प्रतिभागियों का प्रदेश की साढ़े आठ करोड़ जनता की ओर से स्वागत किया।
प्रकृति के संरक्षण के साथ अर्थ-व्यवस्था को मजबूत बनाना है

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संगोष्ठी के प्रतिभागी अर्थशास्त्रियों के सुझाव मध्यप्रदेश सरकार के लिए महत्वपूर्ण होंगे। हम इन पर अमल भी करेंगे। अर्थशास्त्रियों के लिए यह विचारणीय है कि हम प्रकृति के संरक्षण के साथ अर्थ-व्यवस्था को मजबूत बनाने की विधियों पर कार्य करें। आज कोविड जैसी समस्याएँ प्रकृति की अनदेखी के फलस्वरूप सामने आयी है। मुख्यमंत्री चौहान ने उम्मीद व्यक्त की कि यह संगोष्ठी आत्म-निर्भर भारत के लिए मार्गदर्शक होगी। ग्लोबल ट्रेड सहित अन्य महत्वपूर्ण विषय पर संगोष्ठी में हो रहा विचार-विमर्श राष्ट्रहित में उपयोगी रहेगा।
विकास का मॉडल अपना नहीं था, प्रधानमंत्री श्री मोदी ने दिया महत्वपूर्ण मंत्र

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत में अपनाया गया विकास का मॉडल अपना नहीं था। आजादी के बाद की यह सबसे बड़ी त्रासदी थी। यह मान लिया गया कि अन्य देश हमसे श्रेष्ठ हैं। हमें अपने देश की परिस्थितियों के मुताबिक एक मॉडल तैयार करना था। पश्चिम में राजतंत्र के विरूद्ध प्रजातंत्र का उदय हुआ। इसके साथ ही हम सभी जानते हैं कि साम्यवाद को भी अनेक देशों ने विदा कर दिया, क्योंकि उस व्यवस्था को लागू करने से जनता सुखी नहीं हुई। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आर्थिक क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य हो रहे हैं। समग्र विकास के लिए प्रयास हो रहे हैं। कहा भी गया है कि ऐसा विकास पर्याप्त नहीं जिससे आम लोगों की जिंदगी में प्रकाश न आए। प्रधानमंत्री मोदी के प्रयत्नों से अर्थ-व्यवस्था को सशक्त करने का कार्य हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी ने आत्म-निर्भर भारत का महत्वपूर्ण मंत्र दिया है।
असमानता को खत्म करें

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अर्थ-व्यवस्था की दिशा ऐसी होना चाहिए कि हम पृथ्वी भी बचा पाएँ और धरती पर सुखी समाज देखें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अर्थ के बिना दुनिया चल नहीं सकती। साथ ही अर्थ का अभाव व्यक्ति और राष्ट्र के लिए अच्छा नहीं माना गया है। कहते हैं अर्थ का प्रभाव भी श्रेष्ठ नहीं है। दरअसल अर्थायाम आवश्यक है। भारत में उत्पादन, वितरण और उपभोग में सामंजस्य एवं संतुलन बनाने और दोषपूर्ण माध्यमों से अर्थ का उपार्जन न करने के दर्शन को आज नहीं तो कल विश्व भी स्वीकार करेगा। व्यक्ति के साथ ही सामाजिक जीवन में भी अर्थ का महत्व है। विकास दर बढ़े, इससे किसी को आपत्ति नहीं। हमें संसाधनों के समान वितरण और असमानता की खाइयों को खत्म करना पड़ेगा।
मध्यप्रदेश अब बीमारु नहीं सुचारु राज्य

कॉन्फ्रेंस प्रेसिडेंट इंडियन इकानामिक एसोसिएशन और नीति आयोग के सदस्य प्रो. रमेश चंद्र ने कहा कि मध्यप्रदेश किसी समय बीमारू राज्य था, लेकिन अब यह सुचारू राज्य है। इसमें सुशासन सहायक है, जो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की नेतृत्व क्षमता से सम्भव हुआ है। प्रो. रमेश चंद्र ने कहा कि कृषि, सिंचाई के क्षेत्र में किए गए सुधार, किसानों को समर्थन मूल्य पर उपज खरीदने की सुविधा और भावांतर जैसे साधनों को अपनाने से मध्यप्रदेश की विकास दर में वृद्धि हुई। प्रदेश में कृषि को नजरअंदाज नहीं किया गया बल्कि अर्थ-व्यवस्था का आधार बनाया गया।
अर्थ-व्यवस्था के महत्वपूर्ण पहलु पर चिंतन का माध्यम है संगोष्ठी

अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष अर्थशास्त्री श्री सचिन चतुर्वेदी ने कहा कि यह संगोष्ठी अर्थ-व्यवस्था के महत्वपूर्ण पहलु पर चिंतन का माध्यम है। कोरोना की परिस्थितियों के पश्चात विश्व में नवीन आर्थिक संभावनाओं को सभी देख रहे हैं। आज हम 5.9 इकोनोमिक ग्रोथ की आशा कर रहे हैं। साथ ही जो क्षेत्र कोविड से अधिक प्रभावित हुए उनको पुन: सक्षम बनाने के प्रयास हो रहे हैं। इनमें होटल, हॉस्पिटेलिटी, पर्यटन और उद्योग सेक्टर शामिल हैं। मध्यप्रदेश की ताकत यहाँ कार्य कर रहे स्व-सहायता समूह भी हैं। कृषि और खाद्य प्र-संस्करण और एम.एस.एम.ई सेक्टर को बढ़ावा देकर प्रदेश में आर्थिक क्षेत्र को समर्थ बनाया जा रहा है। स्व-रोजगार के लिए भी प्रयास बढ़ाए गए हैं। संगोष्ठी के सत्रों में इन विषय को चर्चा के केन्द्र में रखा जाएगा। बैंकों की भूमिका, मुद्रा एवं अन्य योजनाओं में लोगों को लाभान्वित करने के प्रयासों की भी चर्चा होगी। मध्यप्रदेश के लैंड लॉक्ड होने के बावजूद व्यापार और वाणिज्य क्षेत्र में अपेक्षित प्रगति प्राप्त करने की कोशिशें महत्वपूर्ण हैं। कोविड के बाद के दौर में कॉन्फ्रेंस की योजना में वैक्सीनेशन में वृद्धि और उसकी इक्विटी को भी केन्द्र में रखा गया। यह प्रधानमंत्री जी की भी प्राथमिकता है। चतुर्वेदी ने कहा कि एक अनुमान के अनुसार विश्व स्तर पर 2021 में 10 प्रतिशत ग्लोबल ट्रेड ग्रोथ की आशा की गई है। इस वर्ष वर्ल्ड ट्रेड 5.6 ट्रिलियन डॉलर होने का अनुमान है, जो हमारे लिए महत्वपूर्ण अवसर होगा। साथ ही इन्फ्लेशन को मैनेजेबिल रखने की चुनौती है। उदाहरण के लिए मध्यप्रदेश में फ्यूल पर टैक्स कम करने का फैसला राजस्व हानि की चिंता किए बिना तुरंत किया गया। रोजगार क्षेत्र की चुनौती के विषय पर भी संगोष्ठी के सत्र में विभिन्न विद्वान चिंतन करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

टाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाईनागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Police Recruitment 2022 : यूपी पुलिस में हाईस्कूल पास युवाओं के लिए निकली बंपर भर्तियां, जानें पूरी डिटेलहिजाब के बिना नहीं रह सकते तो ऑनलाइन कक्षा का विकल्प खुला : भट्टएक लाख श्रद्धालु आएं तो भी आधा घंटे में हो जाएंगे महाकाल के दर्शन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.