CM बोले- कांग्रेस ने गुरु को शिक्षक से शिक्षाकर्मी बनाया, BJP सरकार ने लौटाया सम्मान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस सरकार में शिक्षकों को कर्मी बना दिया था। इससे सम्मान का भाव कैसे आएगा...।

By: Manish Gite

Published: 05 Sep 2017, 05:06 PM IST

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस सरकार में गुरुओं को शिक्षक से कर्मी बना दिया गया था। इससे उनके प्रति सम्मान का भाव कैसे आएगा। गुरु, शिक्षक या अध्यापकों का सम्मान हमें करना है। हमारी सरकार ने शिक्षकों का सम्मान लौटाया और कर्मी प्रथा ही खत्म कर दी।

मुख्यमंत्री चौहान राजधानी के टीटी नगर स्थित मॉडल स्कूल में शिक्षकों के राज्य स्तरीय सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर बड़ी संख्या में शिक्षकों का सम्मान किया गया। इस मौके पर शिक्षा राज्यमंत्री दीपक जोशी भी मौजूद थे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने गरीब छात्रों को आगे बढ़ने और बढ़ने के लिए सरकार की तरफ से मदद की बात दोहराई।

हमारे गुरुओं को शिक्षाकर्मी बना दिया
2003 में 2350 रुपए शिक्षकों को मिलते थे। हमारे गुरुओं को बना दिया शिक्षाकर्मी। जहां कर्मी बोलेंगे तो सम्मान का भाव कहा आएगा। जब मैं मुख्यमंत्री बना तो मैंने तय कर लिया था कि कर्मी कल्चर समाप्त कर दिया जाएगा। आज की तारीख में हमने शिक्षाकर्मी से अध्यापक। हमारी सरकार ने वरिष्ठ अध्यापक का वेतन 43,000, अध्यापक 36,500, सहायक अध्यापक 33,000 कर दिया।

शिक्षकों का पदनाम बदलेगा
मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षक तो शुरू से अंत तक शिक्षक ही रहते है। उनका कोई पदनाम तो बदलता नहीं है। लेकिन हमारी सरकार के सम्मान के लिए वरिष्टता के आधार पर पदनाम में परिवर्तन करेगी।

ब्लू व्हेल गेम को प्रतिबंधित होना चाहिए
मुख्यमंत्री ने ब्लू व्हेल गेम से हो रही छात्रों की मौत पर कहा कि यह भारत की परंपरा नहीं है। संबंधितों से कहा है कि इस गेम पर प्रतिबंध लगना चाहिए। इसमें बच्चे सम्मोहित हो जाते हैं और जान दे देते हैं। बच्चों को हम जैसी दिशा देंगे वैसे ही यह बनेंगे। यदि बच्चों को सही दिशा दें तो ये बच्चे आसमान छू लेंगे। जीवन की दिशा को सही तरफ ले जाएं। यह काम काम सरकार, समाज और शिक्षकों का है।

Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned