बाबरी मस्जिद फैसले पर बोले CM शिवराज, 'सत्य परेशान हो सकता है, किंतु पराजित नहीं', जानिए किसने क्या कहा..

- उमा भारती, पवैया समेत सभी अभियुक्त बरी...
- सीएम शिवरात ने किया ट्वीट...
- बोले, आज एक बार फिर सत्य की जीत हुई है! भारतीय न्यायपालिका की जय!

By: Ashtha Awasthi

Updated: 30 Sep 2020, 01:38 PM IST

भोपाल। अयोध्या की बाबरी मस्जिद विध्वंस केस (babri masjid demolition case) में विशेष सीबीआई अदालत ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया है। छह दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने के आपराधिक मामले में 28 साल बाद जज सुरेंद्र कुमार यादव की विशेष अदालत अपना फैसला सुना दिया है। जज ने फैसला पढ़ते हुए कहा है कि यह विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था बल्कि आकस्मिक घटना थी। विशेष अदालत ने उमा भारती, पवैया समेत लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी व कल्याण सिंह सभी अभियुक्तों को बरी कर दिया है।

अदालत के द्वारा ये फैसला सुनाए जाने के बाद मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान नें ट्वीट किया है। उन्होंने कहा है कि, सत्य परेशान हो सकता है, किंतु पराजित नहीं। आज एक बार फिर सत्य की जीत हुई है! भारतीय न्यायपालिका की जय!

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दो शब्दों में अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है सिर्फ सत्यमेव जयते।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि, सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं। बाबरी ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट के फैसले से यही साबित हुआ है। इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं और संतों पर सभी आरोप झूठे और राजनीति से प्रेरित थे। यह फैसला ऐतिहासिक और स्वागतयोग्य है। सत्य मेव जयते।

babri-surprem-court-1492580048_835x547.jpeg

मंत्री गोपाल भार्गव ने कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि राम मंदिर के निर्माण में जो बाधाएं थी वो रामचंद्रजी की कृपा से दूर हो गई। यह अंतिम बाधा थी, कोर्ट ने भी आरोपियों को बरी कर दिया।

कांग्रेस के प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता ने एक चैनल पर कहा कि इस फैसले को राजनीतिक दृष्टिकोण से नहीं सोचना चाहिए। कानून का रास्ता क्या होगा। कानूनी पहलुओं पर गौर करना होगा। इस पर राजनीतिक रोटियां नहीं सेंकना चाहिए।

मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि कोर्ट का यह ऐतिहाससिक फैसला है। जो लोग कोर्ट के खिलाफ बात कर रहे हैं यह कोर्ट की अवमानना है। उन्हें सजा मिलना चाहिए।

1200px-babri_masjid.jpg

17 की हो चुकी है मौत

जानकारी के लिए बता दें कि इस मामले में 49 लोगों को अभियुक्त बनाया गया था। इसमें से 17 की मौत हो चुकी है। सीबीआई व अभियुक्तों के वकीलों ने करीब आठ सौ पन्ने की लिखित बहस दाखिल की है। इससे पहले सीबीआई ने 351 गवाह व करीब 600 से अधिक दस्तावेजी साक्ष्य पेश किए हैं।

babri-surprem-court-1492580048_835x547.jpeg
Show More
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned