भाजपा के पूर्व मंत्री कमल पटेल का बेटा जिला बदर, दर्ज हैं 14 मामले 

पूर्व विधायक कमल पटेल के बेटे सुदीप पटेल को एक साल के जिले जिला बदर कर दिया गया। उस पर हरदा  समेत आसपास के थानों में 14 मामले दर्ज हैं।


भोपाल/हरदा। पूर्व विधायक कमल पटेल के बेटे सुदीप पटेल को एक साल के जिले जिला बदर कर दिया गया। उस पर हरदा  समेत आसपास के थानों में 14 मामले दर्ज हैं। भोपाल में सोमवार को दिए बयान के बाद उनके बेटे के जिला बदर की कार्रवाई को साथ जोड़कर देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि पटेल पिछले कुछ दिनों से बेटे को बचाने के लिए सक्रिय हैं।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक मंगलवार को जिला दंडाधिकारी ने 14 मामले के आरोपी सुदीप पटेल को एक साल के लिए जिला बदर कर दिया गया। कोर्ट ने यह भी कहा है कि उसे आसपास के पांच जिलों की सीमा से भी दूर रहना होगा। 


भोपाल में जमे हैं पूर्व मंत्री कमल पटेल
नर्मदा नदी में अवैध रेत उत्खनन के मुद्दे पर पूर्व मंत्री कमल पटेल ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एक दिन पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में अवैध रेत खनन की याचिका दाखिल कर पटेल ने मुख्य सचिव को पार्टी बनाया है। सरकार पर सीधे हमले के बहाने पटेल हरदा कलेक्टर-एसपी, संभागायुक्त एवं अन्य अफसरों का तबादला चाहते हैं। उनका आरोप है कि विगत दिवस प्रभारी मंत्री लाल सिंह आर्य के साथ हांडिया के तटीय इलाके में अवैध खनन करने वाले जिन 75 वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई हुई थी उन्हें कलेक्टर ने बगैर जुर्माना छोड़ दिया है। इधर पूर्व मंत्री की राजनीति पर पूर्व आईएफएस एवं सिस्टम परिवर्तन अभियान के अध्यक्ष आजाद सिंह डबास प्रशासनिक अफसरों के बचाव में उतर आए हैं।

ड्रामा रच रहे हैं कमल पटेल
डबास ने मुख्य सचिव को पत्र लिखा है, जिसमें पूर्व मंत्री कमल पटेल पर अपने पुत्र सुदीप पटेल को जिलाबदर के मामले से बचाने के लिए पूरा ड्रामा रचने का आरोप है। 

प्रदेशाध्यक्ष से सिफारिश 
पूर्व मंत्री कमल पटेल तीन दिन से भोपाल में डेरा डाले हुए हैं। बेटे को बचाने की कवायद में उन्होंने प्रदेशाध्यक्ष से भी सिफारिश कराने का प्रयास किया। पिछले दिनों प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे का विवाद भी हरदा पुलिस के अधिकारियों से हुआ था, जिसमें कमल पटेल ने प्रदेशाध्यक्ष के पुत्र हर्षवर्धन सिंह का बचाव किया था। पटेल चाहते हैं कि संगठन अब उनके बेटे को जिलाबदर होने से बचाए। 

कलेक्टर-एसपी से पुराना विवाद 
हरदा कलेक्टर श्रीकांत बनोट, एसपी आदित्य प्रताप सिंह से पूर्व मंत्री का विवाद बेटे सुदीप पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई को लेकर शुरू हुआ था। सुदीप पर हरदा पुलिस के पास कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। एसपी के प्रतिवेदन पर कलेक्टर ने सुदीप को जिलाबदर करने की फाइल बनाई है।

सीएस से निष्पक्ष जांच की मांग 
सिस्टम परिवर्तन अभियान के अध्यक्ष एवं पूर्व आईएफएस अधिकारी आजाद सिंह डबास ने पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है। मुख्य सचिव को लिखे पत्र में डबास ने जब्त रेत के स्टॉक का ब्योरा देते हुए इस पर जुर्माना नहीं लगाए जाने के मामले में संबंधितों से पूछताछ की बात कही है। 
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned