हर सरकार में 'मलाई' खाते हैं कंप्यूटर बाबा, हेलिकॉप्टर का शौक है पुराना, जानिए उनकी अनसुनी कहानी

हर सरकार में 'मलाई' खाते हैं कंप्यूटर बाबा, हेलिकॉप्टर का शौक है पुराना, जानिए उनकी अनसुनी कहानी

Pawan Tiwari | Updated: 04 Jun 2019, 07:35:58 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

कंप्यूटर बाबा की वो बातें जो आप नहीं जानते हैं...

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजनीति में बाबाओं की दखलअंदाजी किसी से छिपी नहीं है। उन्हीं में से एक बाबा हैं कंप्यूटर बाबा। कंप्यूटर बाबा की ख्याति सिर्फ मध्यप्रदेश तक सीमित नहीं है, बाबा को तो पूरा देश जानता है। मध्यप्रदेश सरकार किसी की हो बाबा मलाई जरूर खाते हैं। कमलनाथ के सरकार में शामिल होते ही बाबा का हेलिकॉप्टर शौक फिर से जाग गया है।

 

मंगलवार को मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की मौजूदगी में कंप्यूटर बाबा ने नर्मदा-मंदाकिनी-क्षिप्रा नदी न्यास का अध्यक्ष पद संभाला है। बाबा ने पद संभालते ही हेलिकॉप्टर की मांग कर दी। इसके पीछे बाबा ने तर्क दिया है कि पैदल बहुत घूम लिया है। अब एक हफ्ते में हेलिकॉप्टर दिलवा दें और उसी से नर्मदा का निरीक्षण करेंगे। कंप्यूटर बाबा ने कहा कि नर्मदा को बचाना है तो अस्त्र-शस्त्र भी आधुनिक होना चाहिए।

computer baba

 

हेलिकॉप्टर का शौक पुराना
बाबा ने सरकार से हेलिकॉप्टर की डिमांड की है। ऐसा नहीं है कि सरकार में आने के बाद बाबा ने ऐसी मांग रखी है। उनका ये पुराना शौक है। धार्मिक कार्यक्रमों के लिए भी बाबा हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल करते आए हैं। 2011में मालवा महाकुंभ और 2012 में विदिशा में धार्मिक आयोजन के लिए हेलिकॉप्टर से लगातार कई दिन तक पर्चे बांटे गए थे।

computer baba

 

ये है बाबा का असली नाम
आप कई बार सोचते होंगे कि वाकई इनका नाम कंप्यूटर बाबा ही हैं तो नहीं बाबा का असली नाम नामदेवदास त्यागी है। इनका इंदौर के अहिल्या नगर में भव्य आश्रम है। इनको उपनाम मिलने की वजह भी बहुत दिलचस्प है। 1998 में जब कंप्यूटर युग की शुरुआत हो रही थी तब नृसिंहपुर में एक कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ साधु-संतों ने नामदेवदास त्यागी की तेज कार्यशैली को देखते हुए इनका नाम कंप्यूटर बाबा रख दिया।

computer baba

 

इनाम मिलते ही हो गए थे मौन
मध्यप्रदेश शिवराज सिंह की सरकार के दौरान कंप्यूटर बाबा ने नर्मदा नदी में हो रहे अवैध उत्खनन का मामला उठाया था। इसके लिए वो पूरे राज्य में मुहिम चलाने वाले थे। लेकिन शिवराज सिंह इनके साथ चार और बाबाओं को राज्य मंत्री का दर्जा दे दिया। उसके बाद बाबा ने मौन धारण कर लिया।

इसे भी पढ़ें: VIDEO STORY : जनता ने शिवराज को कान पकडक़र सत्ता से बाहर किया : कम्प्यूटर बाबा

 

विधानसभा चुनाव से पहले अलग हो गए
कंप्यूटर बाबा मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले शिवराज सिंह के खिलाफ हो गए। उसके बाद वो कांग्रेस नेताओं के करीब देखे जाने लगें। चुनाव के बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन गई। कुछ दिन बाद यानी लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही उन्हें इनाम मिल गया। नर्मदा न्यास का अध्यक्ष बना दिया गया। लेकिन बाबा ने कार्यभार चुनाव नतीजे आने के बाद संभाला।

computer baba

 

बाबा सोशल मीडिया पर रहते हैं एक्टिव
नाम के अऩुसार बाबा लैपटॉप का भी खूब इस्तेमाल करते हैं। लैपटॉप और मोबाइल के जरिए वह सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं। हमेशा अपनी गतिविधियों की जानकारी वह अपने सोशल मीडिया एकाउंट के जरिए लोगों को देते हैं।

इसे भी पढ़ें: कंप्यूटर बाबा को मिला 'इनाम', पद संभालते ही मांगा हेलिकॉप्टर, अचरज में सरकार

computer baba

 

दिग्विजय के लिए प्रचार
लोकसभा चुनाव के दौरान भोपाल से कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के लिए बाबा ने भोपाल में रोड शो किया था। यही नहीं उन्होंने दिग्विजय सिंह के लिए सैकड़ों साधु-संतों के साथ धूनी तापा था। दिग्विजय सिंह भी वहां पहुंचे थे। साथ ही साध्वी प्रज्ञा पर भी खूब हमला किया था लेकिन दिग्विजय सिंह चुनाव हार गए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned