कांग्रेस ने सिंधिया के गढ़ में लगाई सेंध

तोमर अपना पोलिंग बूथ तक हारे

कांग्रेस की भाजपा से ज्यादा सिंधिया से थी रार

 

By: Arun Tiwari

Published: 12 Nov 2020, 06:14 PM IST

भोपाल : कांग्रेस ने भले ही उपचुनावों में करारी हार झेली हो लेकिन कुछ बातें उसको बड़ी राहत देने वाली है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ ग्वालियर-चंबल में कांग्रेस ने सेंध लगाकर आधी सीटों पर कब्जा जमा लिया है। पूरे उपचुनाव का केंद्र बने इस क्षेत्र की 16 सीटों पर चुनाव का पूरा दारोमदार टिका हुआ था और ये सीधे तौर पर सिंधिया की नाक का सवाल था। इन 16 सीटों में से कांग्रेस ने 7 सीटें जीतकर ये जता दिया कि जनता ने उस पर भरोसा और सिंधिया को नीचा दिखाया है। सिंधिया के खासमखास मंत्रियों को भी कांग्रेस ने धूल चटा दी। इमरती देवी का हारना सिंधिया के लिए बड़ा झटका है।

दिग्गजों की सीट ही हार गई भाजपा :
केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत पूर्व मंत्री माया सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, उम्मीदवार मुन्नालाल गोयल ने ग्वालियर पूर्व सीट पर वोट डाला लेकिन वही सीट भाजपा जीत नहीं पाई। यहां तक कि नरेंद्र सिंह तोमर के मतदान केंद्र पर भी भाजपा ने हार का मुंह देखा। तोमर के संसदीय क्षेत्र मुरैना भी वे नहीं जिता पाए। मुरैना पर कांग्रेस ने जीत हासिल की। मुरैना जिले की तीन सीटों पर भी कांग्रेस ने कब्जा किया।

जिन पर मचा बवाल वे मुद्दे बेअसर :
कांग्रेस के दो बयानों को भाजपा ने बड़ा मुद्दा बनाया था। मुरैना के कांग्रेस नेता दिनेश गुर्जर ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भूखा-नंगा कहा तो मानो भाजपा ने इसे पूरे देश का मुद्दा बना दिया। लेकिन वही मुरैना सीट कांग्रेस जीत गई। दूसरा बयान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का था जिसमें उन्होंने इमरती देवी को आइटम कह दिया था। इस मुद्दे को भाजपा ने नारी सम्मान से जोड़ दिया। सीएम समेत भाजपा का हर बड़ा नेता उपवास पर बैठ गया। राष्ट्रीय महिला आयोग ने नोटिस जारी कर दिया। राहुल गांधी ने आलोचना कर दी और चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छीन लिया। इमरती देवी सिंधिया के गले लगकर मंच पर खूब सुबक-सुबक कर रोईं। इन सबके बाद भी ये मुद्दा चुनाव में टांय-टांय फिस्स हो गया। डबरा से खुद इमरती देवी चुनाव हार गईं।

mp kamalnath
Arun Tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned