बीजेपी के 'गुप्त रोग' गिनाकर फंस गए दिग्विजय सिंह, यूजर्स ने जमकर किया ट्रोल

बीजेपी के 'गुप्त रोग' गिनाकर फंस गए दिग्विजय सिंह, यूजर्स ने जमकर किया ट्रोल

Manish Geete | Publish: Aug, 09 2018 02:50:53 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

बीजेपी के 'गुप्त रोग' गिनाकर फंस गए दिग्विजय सिंह, यूजर्स ने जमकर किया ट्रोल

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह एक बार फिर जमकर ट्रोल हुए। इस बार उन्होंने एक के बाद एक भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कह दिया कि यह भाजपा के 'गुप्त रोग' हैं। इसके बाद यूजर्स ने दिग्विजय को जमकर ट्रोल किया और यहां तक कि कह दिया कि जहां अपने 'गुप्त रोग' के बारे में बताइए।

 

क्या कहा था दिग्विजय ने
दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा था कि रफेल डील गुप्त, पुराने नोटों की गिनती गुप्त, काला धन कितना आया गुप्त, GST से टैक्स कितना आया गुप्त, नौकरी के आंकड़े गुप्त, बनारस पुल का ठेकेदार गुप्त। यह गुप्त रोग ठीक भी होगा या इसको साथ लेकर ही निकल लोगे साहब?

 

क्या क्या लिखते हैं यूजर्स
-दिग्विजय सिंह को चाचाजी कहते हुए विजय महाजन नाम से एक यूजर लिखते हैं कि पनामा पेपर्स, कोयला घोटाला, चारा घोटाला, 2जी घोटाला, हेलिकाप्टर घोटाला, जबरन नसबंदी, कश्मीरी पंडित, 40 लाख घुसपैठिए, विजय माल्या और नीरव मोदी को लोन, स्विस बैंक में पैसे, देश में आपातकाल, चीन को दी गई जमीन, आलू से सोना बनाने की मशीन देखों कांग्रेस ने अपने गुप्त रोग पर कौन सी दवाई लगाई है।

एसके अलावा एक अन्य यूजर ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि गुप्त रोग से पूरी कांग्रेस भरी पड़ी है, कहीं डॉक्टर के पास जाकर इलाज कराओ, न जाने कौन-कौन-सी बीमारी बाहर आएगी।
-इसी प्रकार से दूसरे यूजर ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि यदि बढ़ती उम्र में इश्क हो तो ताज्जब न कर ए दोस्त, आखिर पुरानी गेंद ही रिवर्स स्विंग होती है।
-वहीं घनश्याम नाम के एक यूजर ने कमेंट बाक्स में लिखा है कि सच्चाई तो यह है भारत के लिए कांग्रेस एक गुप्त रोग है, जिसे बीजेपी मुक्त करना चाहती है। जिस दिन गुप्त रोग खत्म हो जाएगा भारत का विकास ही विकास होगा।

 

दिग्विजय ने साउथ की फिल्मों के एक कॉमेडियन कलाकार की फोटे के साथ यह बातें लिखी थी। इसके बाद से दिग्विजय सिंह अब तक ट्रोल हो रहे हैं।

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned