कांग्रेस का आरोप, चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं मुख्यमंत्री और मंत्री

लोकलुभावन घोषणाएं भी कर रही है सरकार

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस का आरोप है कि मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों द्वारा उपचुनाव क्षेत्र में लगातार आचार संहिता के उल्लंघन किया जा रहा है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं चुनाव आयोग कार्य प्रभारी जेपी धनोपिया ने इस संबंध में चुनाव आयोग को शिकायत करते हुए प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही की मांग की है। उन्होंने कहा कि खंडवा लोकसभा और पृथ्वीपुर, रेगांव, और जोबट में विधानसभा उपचुनाव प्रभावशील है। इस स्थिति में किसी प्रकार की शासकीय घोषणाएं की जाना आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में आती हैं। लेकिन प्रदेश के मुख्यमंत्री और मंत्री इन क्षेत्रों में अथवा सटे हुए क्षेत्रों में लोक लुभावनी घोषणाएं कर जनता को गुमराह कर रहे हैं।

सोमवार 5 अक्टूबर को प्रदेश के मुख्यमंत्री की उपस्थिति में झाबुआ मे जनजातीय कार्यक्रम का आयोजन शासकीय खर्चे पर किया गया जिसमें सरकार के मंत्री भी शामिल रहे। उन्होंने आरोप लगाया कि यह कार्यक्रम जोबट विधानसभा क्षेत्र के उप चुनाव को प्रभावित करने के उद्देश्य से किया गया। जहां कई शासकीय घोषणांए की गई पूर्व में अलीराजपुर एवं जोबट झाबुआ जिला अन्तर्गत ही स्थापित थे। जोबट विधानसभा क्षेत्र की सीमा झाबुआ जिले से लगी हुई है एवं जोबट तहसील की करीब 24-25 पंचायतें जिनमें करीब 35 मतदान केन्द्र झाबुआ जिले की परिधि में शामिल है, जहां पर आचार संहिता लागू है, ऐसे में मुख्यमंत्री द्वारा शासकीय खर्चे पर राजनैतिक कार्यक्रम आयोजित कर लुभावनी घोषणाएं करना आचार संहिता का खुला उल्लंघन है।

रिटर्निंग अधिकारी एसडीएम नरवरिया हटाया जाए -

धनोपिया ने जोबट विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी व एसडीएम श्यामवीर नरवरिया को तत्काल स्थानांतरण किए जाने की चुनाव आयोग से पुन: मांग की है। कांग्रेस ने पूर्व में भी उन्हें हटाने की मांग की थी। नरवरिया केन्द्र की भाजपा सरकार में राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल के सगे दामाद है। मंत्री के दामाद उसी विधानसभा क्षेत्र में रिटर्निंग आफिसर के पद पर पदस्थ नहीं रह सकते है क्योंकि इनकी पदस्थापना से चुनाव प्रक्रिया प्रभावित होगी।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned