फिर बढ़ रहे कोरोना के केस: वैक्सीनेशन में छोटे जिले आगे, इंदौर-भोपाल पिछड़े

वैक्सीनेशन में डिंडोरी जिला पहले स्थान पर रहा।

By: Pawan Tiwari

Published: 21 Feb 2021, 05:00 PM IST

भोपाल. प्रदेश में अब तक 6 लाख 22 हजार से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना वायरस से बचाव की वैक्सीन लगाई जा चुकी है। करीब 26% लोग वैक्सीन लगवाने नहीं पहुंचे। वैक्सीनेशन में डिंडोरी जिला पहले स्थान पर रहा। यहां 93 फीसदी स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंट लाइन वर्करों ने वैक्सीन लगवाई।

भोपाल में कुल 68063 में से 47915 करीब 70 फीसदी वैक्सीन लगवाई। जला 42वें नंबर पर रहा। टीकमगढ़ में भी इतना प्रतिशत रहा। यह 41वें नंबर पर है। 68 प्रतिशत वैक्सीनेशन के साथ जबलपुर 45वें, 65 प्रतिशत के साथ इंदौर 49वें नंबर पर है।

उधर, प्रदेश में शनिवार को 18192 फ्रंट लाइन वर्करों ने वैक्सीन लगवाई है, जबकि 81 हजार से अधिक को बुलाया गया था। 3775 से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को दूसरा डोज दिया गया। पहले चरण में छूटे 4400 से अधिक कर्मियों को टीके लगाए गए। 9940 फ्रंटलाइन वर्करों को टीके लगाए गए हैं।

फिर बढ़ने लगे केस
मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में कोरोना संक्रमण के मामले एक बार फिर से बढ़ने लगे हैं। लगातार दो दिन से वहां 100 से ज्यादा नए केस आ रहे हैं। ऐसे में इंदौर फिर से कोरोना केसों के मामले में पहले नंबर पर आ गया है। इंदौर में सबसे ज्यादा 550 कोरोना के सक्रिय मरीज हो गए हैं। भोपाल दूसरे नंबर पर आ गया है। यहां पर अब कुल 506 कोरोना के एक्टिव केस हैं। शनिवार को जारी रिपोर्ट में इंदौर में दो कोरोना मरीजों की मौत की पुष्टि हुई, जबकि खरगौन और राजगढ़ में भी एक-एक मौत हुई।

coronavirus
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned