गया नहीं है कोरोना, बाजारों में नहीं हो रहा एसओपी का पालन, लापरवाही से बन रहे रोजाना नए रिकॉर्ड

- सितंबर माह में ही अब तक सामने आए 3 हजार से ज्यादा केस, यही स्थिति रही तो एक दिन में आएंगे 400 से 500 मरीज, कैसे कम होगा अस्पतालों से लोड, हाालात बेकाबू

भोपाल. बाजारों में बढ़ रही भीड़ और बिना मास्क के घूम रहे लोग ये जान लें कि अभी कोरोना गया नहीं है। वह उसी स्थिति में है, सिर्फ नियमों में ढील दी गई है। इसी का फायदा उठाकर कई लोग नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। खुद देखिए शहर के व्यस्त रहने वाले हमीदिया रोड, घोड़ा नक्कास, छावनी रोड मंगलवारा, भवानी चौक, लखेरापुरा, सोमवारा, जहांगीराबाद, चौक में क्या स्थिति है। यहां दुकानों पर बैठे लोग भी मास्क नहीं लगाए हैं। सड़कें भरी हुईं हैं, लेकिन दुकानों पर ग्राहक कम दिख रहे हैं। इससे इतना तो साफ होता है कि ग्राहकी कम और फालतू घूमने वालों की भीड़ भी बाजार में काफी है।

फस्र्ट कॉन्टेक्ट हिस्ट्री तलाशने के लिए लगाई गई टीम अब पहले की तरफ काम नहीं कर रही। क्योंकि सब खुल चुका है। कहीं कोई रोक या बंधन नहीं है। सिर्फ कंटेनमेंट एरिया में लॉकडाउन लगाने के निर्देश हैं, लेकिन अब तो वो भी नहीं दिखता। नतीजा सितंबर माह में ही अब तक 3 तीन हजार से ज्यादा कैस सामने आ चुके हैं। इसका असर अस्पतालों के बेड पर पड़ रहा है। मरीजों को अस्पताल में ही घंटो इंतजार के बाद भर्ती किया जा रहा है। काफी मरीजों को होम आईसोलेशन में भी रखा गया है। इसके बाद भी शहर के कोविड अस्पतालों में जगह नहीं बची। आयुष्मान योजना के तहत बेडों का आरक्षण किया गया है।

जुर्माने भी बंद, एसओपी भूले लोग
हाल ही में कलेक्टर ने बाजारों में मास्क और एसओपी का पालन न करने वालों के लिए जुर्माने का प्रावधान किया है। लेकिन जिम्मेदार भी अब जुर्माने की कार्रवाई नहीं कर रहे। इसका असर ये है कि बाजारों में एसओपी का पालन भी होना बंद हो गया। सैनिटाइजेशन तो अब दूर की बात हो गई। कंटेनमेंट एरिया में ही महीनों से नहीं हुआ। अब तक कंटेनमेंट सूची में भी फर्जीवाड़ा नजर आने लगा है। क्योंकि रोज रिकॉर्ड बन रहे हैं, इधर कंटेनमेंट घट रहे हैं।

इमरजेंसी, होम आईसोलेशन, एम्बुलेंस के लिए करें कॉल

कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि मरीजों के लिए तीन नई सुविधाओं के लिए स्मार्ट सिटी में सेवाएं शुरू की गई हैं। 0755- 2704204 पर कॉल कर कोई भी व्यक्ति इमरजेंसी में अस्पतालों की जानकारी, चाहे वो सरकारी हो या निजी, होम आईसोलेशन के बारे में सक्षम डॉक्टर से जानकारी और जरूरत पर एम्बुलेंस भी बुलवा सकते हैं। इसके लिए स्मार्ट सिटी कंट्रोलरूम में अधिकारियों और डॉक्टरों का अतिरिक्त अमला सोमवार से तैनात किया है। कई लोगों ने मदद भी मांगी है।

प्रवेंद्र तोमर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned