होम क्वाारेंटाईन का स्टीकर लगाने गई टीम से बोली मैं कोरोना पॉजीटिव और लिपट गई

होम क्वारेंटाइन का बोर्ड लगा रहे कर्मचारियों के साथ लोग कर रहे विवाद, कई लोगों ने पोस्टर फाड़ा

भोपाल
कोरोना की रोकथाम के लिए लॉकडाउन किया गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन विदेश से आए व्यक्तियों पर नजर रख रहा है, साथ ही इन लोगों को 14 दिन तक होम क्वारेंटाइन किया जा रहा है। इसके बावजूद लोग होम क्वारेंटाइन को गंभीरता से नहीं ले रहे। हद यह है कि लोग घरों में रहने की बजाय स्वास्थ्य विभाग की टीम और पड़ोसियों से विवाद कर रहे हैं।

बुधवार को पंजाबी बाग क्षेत्र में काम कर रही टीम को भी इन्ही हालातों का सामना करना पड़ा। टीम में पटवारी सुरेन्द्र प्रताप सिंह यादव वार्ड प्रभारी एहसान अली और लिपिक तारिक अली के साथ कोरोना के संदिग्ध लोगों की निगरानी का काम कर रहे थे। वे स्टर्लिंग शालीमार स्थित विराज शालीमार में विदेश से आई युवती के घर पहुंचे। टीम ने उनसे उनुरोध किया कि वे 14 दिन के होम क्वारेंटाइन हो जाएं। इस पर परिजन उनसे विवाद करने लगे, साथ ही परिजनों ने डू नॉट विजिट-होम क्वारेंटाईन का पोस्टर लगाने का विरोध भी किया। यही नहीं संदिग्ध युवती खुद को पॉजीटिव बताते हुए पटवारी से लिपट गई। टीम के कर्मचारियों का कहना है कि युवती कोरोना वायरस का संक्रमण फ़ैलाने के उद्देश्य से पटवारी से लिपट गई थी। दल ने पंचनामा बनाकर वरिष्ठ अधिकारीयों को 188 की कार्रवाई के लिए भेजा है

लोग बार बार फाड़ रहे पर्चे

इसी तरह अवधपुरी क्षेत्र में स्थित सुरेन्द्र माणिक कालोनी, विद्यासागर कालेज के पास दुबई से लौटे एक परिवार के घर पर होम क्वारेंटाईन का पर्चा चस्पा किया था। ताकि लोगों को पता चल सके कि ये घर निगरानी में हैं। मोहल्ले वालों ने शिकायत की कि टीम के जाते ही परिवार के लोगों ने पोस्टर फाड़कर निकाल दिया। टीम ने बुधवार को दोबारा पोस्टर लगा दिया। उनके जाते ही परिवार ने फिर पोस्टर फाड़कर दिया।

सीएमएचओ डा. सुधीर डेहरिया ने लोगों से अपील की है कि वे कोरोना के संक्रमण की गंभीरता को समझते हुए होम क्वारेंटाईन का पालन करें। यदि नहीं माने तो सख्त कार्रवाई की जाएगी

सुनील मिश्रा
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned