कोरोनाः विधानसभा सत्र में प्रश्नकाल पर रोक, स्पीकर का चुनाव टला

कोरोना संकट के चलते मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र में प्रश्नकाल पर रोक, स्पीकर का चुनाव टला

By: Hitendra Sharma

Published: 15 Sep 2020, 04:00 PM IST

भोपाल। कोरोना संकट के चलते इस साल विधानसभा के सत्र में बड़ी तब्दीलियां की गई हैं। विधानसभा के सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने पूर्व सीएम कमलनाथ सहित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहुँचे। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा कि अध्यक्षता में हुई बैठक में कई महत्त्वपूर्ण निर्णय लिए गए। मौजूदा हालात को देखते हुए विधानसभा सदन में केवल 108 विधायकों को सत्र में हिस्सा लेने के लिये तैयारी हो सकी है।

अधिकतर विधायक सीनियर सिटीजन

मध्य प्रदेश विधानसभा के वर्तमान सदस्यों की बात करें तो इस बार 67 से अधिक विधायक हैं जिनकी उम्र 60 साल से ज़्यादा है। मंगलवार को ही एक कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की कोरोना संक्रमण के बाद जान चली गई। ऐसे में सत्र को लेकर लगातार सवाल खड़े किये जा रहे हैं। हालांकि विधानसभा सचिवालय अधिकउम्र के विधायकों को ऑनलाइन सत्र में हिस्सा लेने के लिये तैयारी कर चुका है।

सदन में कोविड-19 प्रोटोकॉल

कोविड-19 के प्रोटोकॉल के अनुसार सदस्यों को दूर-दूर बिठाया जाएगा एसे में सदन में केवल 108 विधायक ही बैठ सकते हैं। सर्वदलीय बैठक में निर्णय हुआ कि इस सत्र में प्रश्नकाल नहीं होगा। देश में ऐसा पहली बार होगा जब किसी सत्र में प्रश्नकाल नहीं हो सकेगा। वही कई महीनों से टल रहे विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव भी अभी नहीं हो सकेगें। सदन में बजट पर चर्चा होगी पर सदन में केवल आमंत्रित सदस्य ही आ सकेंगे, अन्य सभी विधायक अपने घर से ऑनलाइन ही सत्र में शामिल हो पायेंगे।

प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा के अनुसार इस सत्र में विधायक ऑनलाइन और सदन में आकर शामिल होंगे। सत्र के दौरान सरकार को विपक्ष के सवालों का जवाब देना होगा। फिलहाल मध्य प्रदेश के 40 विधायक कोरोना संक्रमित है। इसलिए सत्र से पहले सदस्यों का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा।

Kamal Nath
Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned