scriptCorona - School Education Department Decision | कोरोना के बढ़ते खतरे पर शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, स्कूलों को जारी कर दिए आदेश | Patrika News

कोरोना के बढ़ते खतरे पर शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, स्कूलों को जारी कर दिए आदेश

स्कूल शिक्षा विभाग ने बच्चों को सुरक्षित बचाने के लिए फैसला लिया

 

भोपाल

Updated: January 05, 2022 03:34:25 pm

भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना कहर ढाने लगा है. कोरोना के केस जिस रफ्तार से बढ़ रहे हैं, वह बेहद खतरनाक है. अब सरकार सख्ती दिखाने लगी है और अनेक नए प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं. कोरोना के इस कहर से बच्चों को बचाने की सबसे ज्यादा चिंता है. 15 से 18 वर्ष की आयु सीमा के बच्चों को स्कूलों में टीके लगाने का काम चल रहा है. इसकी सफलता के लिए शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लेते हुए स्कूलों को सख्त आदेश जारी कर दिए हैं.

school_open.png

कोरोना संक्रमण से छोटे बच्चों, किशोरों, युवाओं को बचाने के लिए उन्हें टीके लगाए जा रहे हैं. सभी बच्चों को टीके लग सकें इसके लिए स्कूलों में टीकाकरण किया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद इस टीकाकरण पर सबसे ज्यादा जोर दिया जा रहा है. ऐसे में शिक्षा विभाग सभी स्कूलों पर नजर रखते हुए खासतौर पर प्राइवेट स्कूल संचालकों को इस काम के प्रेरित कर रहा है. इस लक्ष्य की सफलता के लिए शिक्षा विभाग ने सख्त कदम उठाते हुए प्राइवेट स्कूलवालों को बस सुविधा उपलब्ध कराने के आदेश दिए हैं.

school_news.jpgनिजी स्कूलों को अपने विद्यार्थियों को टीका लगवाने के लिए हर हाल में देनी होगी बस सुविधा- देश और प्रदेश के साथ ही भोपाल जिले में भी 15 से 18 वर्ष की आयु सीमा के विद्यार्थियों को टीके लगाए जा रहे हैं. 15 से 18 साल के बच्चों में शतप्रतिशत टीकाकरण के लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी आवश्यक कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. इसी तारतम्य में जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना ने मंगलवार को प्राइवेट स्कूल के प्राचार्यों को बस सुविधा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं.
डीइओ द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि सरकारी एवं निजी स्कूलों के प्राचार्य समस्त स्टाफ को सफल टीकाकरण के लिए अधिकृत करें. विद्यार्थियों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें. आदेश में साफ कहा गया है कि निजी स्कूल टीकाकरण के लिए आने-जाने वाले विद्यार्थियों को बस सुविधा उपलब्ध कराएं. इतना ही नहीं, निर्धारित मापदंड के अनुसार टीकाकरण नहीं होने पर संस्था प्राचार्य एवं पदस्थ कर्मचारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को भी कहा गया है.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलनाआज 6 बजे इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा, पीएम मोदी ने दी जानकारीसुबह 6 बजे टाइम कीपर के घर EOW का छापा, मकान देख दंग रह गए अफसरबसपा प्रत्याशी के पास सबसे अधिक गाडियाँ, अरिदमन हथियार रखने में आगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.