कोरोना वायरस: चीन से लौटे 151 लोगों की निगरानी कर रहा स्वास्थ्य विभाग, राजधानी के आठ लोग भी शामिल

चीन से लौटे लोगों की हो रही मोनिटरिंग

Deepesh Tiwari

February, 1508:32 AM

भोपाल@सुनील मिश्रा की रिपोर्ट...

कोरोना वायरस को लेकर सरकार चीन से आने वाले हर यात्री का लेखाजोखा अपने पास रख रही है। यही कारण है कि विभाग ने सभी जिलों के सीएमएचओ को कोरोना वायरस के अटैक के दो माह पहले तक चीन से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जानकारी जुटाने को कहा है।

जानकारी के मुताबिक अब तक स्वास्थ्य विभाग ने लगभग 151 लोगों की स्क्रीनिंग कर चिन्हित किया है जो चीन से यात्रा कर लौटे हैं। अफसरों के मुताबिक इन लोगों के परिवारजनों से जिलों के सीएमएचओ और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी संपर्क बनाए हुए हैं।

इनमें आठ लोग राजधानी भोपाल के हैं। प्रदेश में 13 संदिग्ध मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया गया है, जिनमें से 2 भोपाल एम्स एवं जिला अस्पताल विदिशा में भर्ती थे। इन सभी मरीजों के नमूने जांच के लिए पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजे गए थे हालांकि सबकी रिपोर्ट नेगेटिव आयी है।

मालूम हो कि वायरस संक्रमण से जुड़ी सूचना देने के लिए राज्य स्तर पर कॉल सेन्टर 104 स्थापित किया गया है। इसके साथ ही प्रदेश में चीन से आने वाले यात्रियों की हवाई अड्डे पर स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। प्रदेश के प्रत्येक जिला चिकित्सालय में 2 से 6 बिस्तरों वाले जबकि सभी चिकित्सा महाविद्यालयों में 10-10 बिस्तरों वाले आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं।

आयुष डॉक्टर्स मरीजों के लिए नहीं खरीद सकेंगे एलोपैथिक दवाएं भोपाल आयुष डॉक्टर्स अब मरीजों को देने के लिए एलोपैथिक दवाओं की खरीदी नहीं कर सकेंगे। खाद्य एवं औषधि ने दवाओं के थोक विक्रेताओं को पत्र जारी करते हुये निर्देश दिए हैं कि एलोपैथिक दवाओं को आयुर्वेद, होम्योपैथी, यूनानी- आयुष डॉक्टरों को ना बेचा जाए। केवल एलोपैथिक प्रैक्टिसनर को ही डाक्टर्स का पंजीयन नंबर लिखकर ही दी जावें।

औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियमावली 1945 के नियम 65-9-बी का कड़ाई के साथ पालन किया जावे। लापरवाही बरतने पर दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी। मामले में आयुष मेडिकल एसोसिएशन के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ राकेश पाण्डेय ने कहा कि जब तक प्रदेश सरकार द्वारा निजी आयुष डॉक्टरों को तय सीमा में इमरजेंसी में एलोपैथिक दवाओं के प्रिस्क्राइब करने की अनुमति नहीं दी जाती है तो आयुष डॉक्टर्स अपनी ही पैथी में प्रैक्टिस करें।

Corona virus
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned