अब तक न तो टास्क फोर्स का गठन किया न ही स्टाफ ट्रेनिंग

कोरोना वायरस: प्रदेश में कोरोना के 18 संदिग्ध

By: Ram kailash napit

Published: 04 Feb 2020, 03:20 AM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के संदिग्ध 18 व्यक्ति सामने आ चुके हैं। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग इस वायरस से बचाव के लिए जमीनी कार्रवाई करने की बजाय सिर्फ दावे ही कर रही है। स्थिति यह है कि जिन अधिकारियों को इस वायरस से खिलाफ तैयारी करने की जिम्मेदारी दी गई है वे सभी छुट्टी पर हैं।
मालूम हो कि प्रदेश में कोरोना वायरस के संदिग्ध मिले हैं। इनमें से छह संदिग्धों को चीन से एयरलिफ्ट कर दिल्ली में रखा गया है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग सक्रियता नहीं दिखा रहा। विभाग ने अब तक ना तो टास्क फोर्स का गठन किया ना ही स्टाफ ट्रेनिंग। अगर कोई व्यक्ति कोरोना का पॉजोटिव सामने आता है तो उसका उपचार किस तरह से किया जाए यह किसी को नहीं पता।

डायरेक्टर छुट्टी पर, अधिकारी ट्रेनिंग पर
स्वास्थ्य विभाग में संक्रामक रोगों की निगरानी आइडीएसपी (इंटीग्रेटेट डिसीज सर्विलांस प्रोग्राम) करता है। इस विभाग की जिम्मेदारी डॉ. मोहन सिंह के पास है लेकिन वे लंबे समय से पारिवारिक कार्यक्रम के चलते छुट्टी पर हैं। वहीं विभाग में डिप्टी डायरेक्टर शीला मीणा भी छुट्टी के बाद लौटी हैं। सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी एपिडिमियोलॉजिस्ट डॉ. रश्मि जैन के पास है, लेकिन वे भी लंबी छुट्टी पर गई हुई थीं। जानकारी के मुताबिक उन्हें विभाग ने ट्रेनिंग पर भेज दिया था, हालांकि वे सोमवार को लौट आईं।

10 संदिग्धों के सैंपल भेजे, 8 निगेटिव , 2 की रिपोर्ट बाकी
इधर, प्रदेश में सामने आए 18 संदिग्धों में से दस लोगों को स्वाब के नमूने जांच के लिए एम्स भेजे गए थे, जिन्हें पुणे भेजा गया था। आठ संदिग्धों की जांच रिपोर्ट आ गई है, वे सभी निगेटिव हैं। बाकी दो संदिग्धों की रिपोर्ट अभी बाकी है। दो संदिग्धों के सैंपल लेने की जरूरत नहीं पड़ी।

मीट मछली मार्केट की रोज हो सफाई
इधर, सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कोरोना वायरस को लेकर समीक्षा बैठक ली। उन्होंने एयरपोर्ट पर आने वाले अन्तरराष्ट्रीय यात्रियों को चिंह्नित कर उनसे फार्म भरवाने के लिए कहा। साथ ही, नगर निगम के अमले को मीट-मछली मार्केट की प्रतिदिन साफ -सफ ाई कराने और वहां दवाई छिड़कवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कोरोना वायरस से लडऩे के लिए बड़े पैमाने पर जन-जागरुकता अभियान चलाने के निर्देश भी दिए। सोमवार शाम मंत्री ने निजी अस्पताल संचालकों से कोरोना वायरस के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि निजी अस्पताल संचालक अपनी व्यवस्थाओं को दुरुस्त रखें। कोई भी संदिग्ध व्यक्ति मिलता है तो उसका सैंपल तुरंत भेजें।

Corona virus
Show More
Ram kailash napit Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned