कोरोना वायरस: लापरवाही बरतने पर 3 अधिकारी निलंबित, सीएम ने सभी मौतों की एनालिसिस रिपोर्ट मांगी

मुख्यमंत्री ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की।

By: Pawan Tiwari

Updated: 28 May 2020, 07:41 AM IST

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना से हुई एक-एक मृत्यु का डिटेल्ड एनालिसिस कर नियमित रूप से रिपोर्ट दें। हमें कोरोना मरीजों को सर्वोत्तम इलाज उपलब्ध करवाकर कोरोना मृत्यु-दर को कम करना है। इलाज में थोड़ी भी लापरवाही होने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कोरोना कार्य में लापरवाही पाए जाने पर दो अधिकारियों को निलंबित करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जिन जिलों और अस्पतालों में कोविड इलाज की सुविधा उपलब्ध है, वे अनावश्यक रूप से मरीजों को दूसरे जिले अथवा दूसरे अस्पतालों में रैफर न करें। मुख्यमंत्री ने गत दिवस हमीदिया अस्पताल से चिरायु अस्पताल रैफर किए गए दो मरीजों के मामले में तुरंत जाँच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए।

सीएमएचओ को निलंबित करें
मुख्यमंत्री ने सागर जिले की समीक्षा के दौरान कोरोना संबंधी अद्यतन जानकारी न देने पर वहां के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिए। नीमच जिले की समीक्षा में पाया गया कि जावद में एक साथ कोरोना के मरीज बढ़े तथा वहां आवश्यक सावधानियां नहीं बरती गई। इस पर मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि एसडीएम जावद को तुरंत निलंबित किया जाए। उन्होंने कलेक्टर को पूरी सावधानी बरतने के निर्देश दिए।

संक्रमित क्षेत्रों में हो प्रभावी नियंत्रण
संक्रमित क्षेत्रों में आंतरिक आवाजाही नहीं होनी चाहिए, अन्यथा वहां संक्रमण फैलेगा। इन क्षेत्रों में गाइड लाइन अनुसार प्रभावी नियंत्रण सुनिश्चित किया जाए। दमोह जिले की समीक्षा के दौरान प्रवासी मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं लक्षण होने पर उन्हें क्वारेंटाइन करने के निर्देश दिए गए। कलेक्टर ने बताया कि संक्रमित व्यक्ति 29-30 मई तक स्वस्थ होकर घर चले जाएंगे।

233 में से 203 मरीज डिस्चार्ज
खंडवा जिले की समीक्षा में बताया गया कि जिले के 233 कोरोना संक्रमित मरीजों में से 203 को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया है। अब जिले में 30 एक्टिव केसेज बचे हैं। संक्रमित मरीजों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए 'सार्थक एप' का उपयोग करने के निर्देश दिए गए। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य सुलेमान ने निर्देश दिए कि कोरोना टैस्ट करने के बाद व्यक्ति को आयसोलेशन में रखा जाना आवश्यक है। यदि उसके घर में आयसोलेशन की व्यवस्था न हो तो उसे सी.सी.सी. अथवा डी.सी.एच.सी. में रखा जाए।

BJP coronavirus Coronavirus Outbreak
Show More
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned