कोरोना से जंग : 1500 बिस्तरों का आइसोलेशन वार्ड और 500 वेंटिलेटर किए रिजर्व

छह संदिग्ध मिले, 329 क्वारंटाइन किए गए, 85 रैपिड टीम तैयार, दो अस्पतालों को बनाया ट्रीटमेंट सेंटर

भोपाल. कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। दो मरीजों में पुष्टि हो चुकी है। ऐसे में राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए हैं। शहर की 22 लाख आबादी को इस महामारी से सुरक्षित रखने का लक्ष्य तैयार किया गया है। इसके लिए स्वास्थ विभाग ने दो मेडिकल कॉलेजों को कोरोना ट्रीटमेंट सेंटर बनाने के साथ ही पर्याप्त वेंटिलेटर की तैयारी की है। इसके लिए विभाग ने बुधवार को सभी निजी मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों से उनके वेंटिलेटर की जानकारी मांगी है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर डहेरिया के मुताबिक सरकारी अस्पतालों के साथ जरूरत पडऩे पर निजी अस्पतालों की सेवाएं भी ली जाएंगी। इसके लिए उनसे तैयार रहने को कहा गया है।

अस्पतालों को खाली कराया
कोरोना से उपचार के लिए विभाग ने हमीदिया अस्पताल और बीएमएचआरसी को ट्रीटमेंट सेंटर के रूप में तैयार किया गया है। यहां भर्ती मरीजों को डिस्चार्ज कर करीब ग्यारह सौ बिस्तर सिर्फ कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित किए गए हैं। इसके साथ ही एडवांस मेडिकल कॉलेज के 300 बिस्तरों को क्वारंटाइन सेंटर के रूप में रिवर्ज किया गया है। वहीं एम्स अस्पताल में 10 बेड और जेपी अस्पताल में भी 20 बिस्तरों का आइसोलेशन वार्ड तैयार है। इसके अलावा शहर के 129 अस्पतालों को पत्र लिखा गया है कि वह आगामी समय के लिए तैयार रहें। वहीं शहर में पांच निजी मेडिकल कॉलेजों को भी तैयार रहने को बोला गया है।

सबको नहीं है जांच की जरूरत
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बताते हैं कि यहां सबकी जांच की जरूरत नहीं है। वायरस का असर दो से 14 दिनों के भीतर होता है, इस दौरान कभी भी इसका प्रभाव हो सकता है। 80 फीसदी लोगों को हल्का बुखार होता है, जो स्वत: ठीक हो जाता है। 20 फीसद में कुछ खांसी, जुकाम व बुखार होता है। मात्र पांच फीसदी मरीजों को ही अस्पताल जाने की जरूरत पड़ती है। इलाज में कुछ नई दवाइयां आई है, जिनका उपयोग किया जा रहा है।

शहर में हैं एक हजार वेंटिलेटर
जानकारी के मुताबिक हमीदिया अस्पताल में 100 से ज्यादा वेंटिलेटर हैं। इसके साथ ही बीएमएचआरसी में 50, जेपी अस्पताल में 12 के साथ शहर के अन्य प्रायवेट मेडिकल कॉलेज और निजी अस्पतालों में करीब 1000 वेंटिलेटर है। इनमें से सरकारी अस्पतालों में मौजूद 500 वेंटिलेटर को रिजर्व किया गया है, जरूरत पडऩे पर विभाग बाकी का उपयोग भी कर सकता है।

कोरोना से जंग : 1500 बिस्तरों का आइसोलेशन वार्ड और 500 वेंटिलेटर किए रिजर्व

कहां कितने क्वारंटाइन बेड रिजर्व
टीबी अस्पताल- 60 बेड
एडवांस मेडिकल कॉलेज- 300 बेड
जेपी अस्पताल- 06 बेड
रैन बसेरा- 74 बेड
3 ईएमई आर्मी सेंटर- 300 बेड
रेलवे अस्पताल- 300 बेड

इन नंबरों से ले सकते हैं मदद
व्हाटसऐप नंबर- 9301089967
लैंडलाइन नंबर- 0755-2570328
मप्र हेल्प लाइन नंबर- 0755- 2527177 व 104
एम्स भोपाल नंबर- 18002331104
होम डिलीवरी वरिष्ठ नागरिकों के लिए- 9826904249
भोपाल सिटी इर्फोमेशन पोर्टल- 7415225222
वरिष्ठ नागरिक हेल्प लाइन नंबर- 18002331253
डॉ. केसी रायकवार- 7999926269
डॉ. रश्मि जैन- 9424476989

coronavirus
govind agnihotri Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned