अपनी ना सही बच्चों की तो चिंता करें, लापरवाही करेंगे तो भरना पड़ेगा खामियाजा

विशेषज्ञों का कहना कि अब फिर वही लापरवाही की तो अगस्त-सितंबर में तीसरी लहर का आना तय है....

By: Ashtha Awasthi

Published: 15 Jun 2021, 02:49 PM IST

भोपाल। कोरोना की दूसरी लहर अंतिम दौर में है, मरीज कम होने से लॉकडाउन भी खत्म हो गया लेकिन अनलॉक में लापरवाही फिर बढ़ी है। न मास्क है, न सोशल डिस्टेसिंग, न संक्रमण से बचने के उपाय से हालात रहे तो अगस्त-सितंबर में संक्रमण एक बार फिर बढ़ सकता है।

शुरू हो गई लापरवाही

जून में हालात जनवरी की तरह ही है। दिसंबर में कोरोना की पहली लहर खत्म होने के बाद जनवरी में संक्रमण कम हो गया था। मरीजों की कम संख्या के चलते प्रतिबंध हटे तो लापरवाही शुरू हो गई। इसका असर दो महीने बाद मार्च में दूसरी लहर के रूप में दिखी जो खतरनाक थी। विशेषज्ञों का कहना कि अब फिर वही लापरवाही की तो अगस्त-सितंबर में तीसरी लहर का आना तय है।

MUST READ: फायदेमंद वैक्सीन: टीके के बाद भी लोगों को हो रहा कोरोना संक्रमण, लेकिन जान को खतरा नहीं

gettyimages-1216951141-170667a.jpg

जनवरी के शुरुआती दो सप्ताह में 1926 नए मरीज मिले यानी रोज करीब 1501 इस हिसाब से जून में हालात बेहतर है। जून में 1681 मरीज मिल चुके हैं यानी रोज औसत 2129 मरीज जो एक अप्रेल और मई के मुकाबले कम है। जनवरी लापरवाही से मार्च में दूसरी हर की शुरुआत हुई। अप्रैल में मरीजों की संख्या बढ़ने लगी।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोरोना कर्फ्यू के 14 दिन बाद ही यानी 25 अप्रेल को पीक आ गया था। उस समय शहर में रोज 1500 से ज्यादा मामले सामने आ रहे थे।

अपनी ना सही बच्चों की तो चिंता करें

विशेषज्ञों का मानना है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक हो सकती है। यदि अब लापरवाही करेंगे तो इसका खामियाजा बच्चे भुगत सकते हैं। इसलिए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है।

Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned