scriptCorruption in Madhya Pradesh, No arrest rule in MP | Corruption News : मध्यप्रदेश में खुले घूम रहे घूसखोर | Patrika News

Corruption News : मध्यप्रदेश में खुले घूम रहे घूसखोर

मध्यप्रदेश में घूस कौन ले रहा है, यह तो सब जानते हैं मगर घूसखोरों को डर बिल्कुल नहीं है। वे छुट्टे घुम रहे हैं। न तो उनकी गिरफ्तारी होती है और न ही उनकी नौकरी ही जाती है। वे मस्ती से काम करते रहते हैं। उनका विभाग उनके साथ है। और हो भी क्यों नहीं, रिश्वतखोरी सबकी राजी मर्जी से जो हो रही है। कुछ मामलों में तो लगेगा कि पूरे कुएं में ही भांग घुल गई है।

भोपाल

Updated: May 25, 2022 01:25:24 am

- न गिरफ्तारी का भय, न जांच होने का खतरा
- सरकार के नियम और एजेंसी की अलिखित सहमति से रिश्वतखोर मस्त

विजय चौधरी, भोपाल.

'सड़क पर एक्सीडेंट का खतरा होता है, तो क्या सड़क पर चलना बंद कर दें?' नि:संदेह आपका जवाब होगा, 'नहीं, यह अतार्किक है।' मगर, मध्यप्रदेश में घूस को काबू करने वाले संगठनों को जवाब होगा, 'हां, सड़क पर नहीं चलना चाहिए।' आपको यह कुछ पहेली जैसा लग रहा होगा, तो आइए इसे सुलझा लेते हैं। दरअसल, प्रदेश में घूसखोरों को गिरफ्तार नहीं किया जाता है। कारण है कि वर्षों पहले घूस के एक आरोपी की हिरासत में मौत हो गई थी।

दरअसल हुआ यों था कि वर्ष 2003 में लोकायुक्त पुलिस की हिरासत में एक वाणिज्यकर अधिकारी की मौत हो गई थी। आरोप लगा कि हिरासत में अधिकारी को प्रताडि़त किया गया। वर्ष 2013 में कोर्ट ने चार पुलिसवालों को दोषी मानकर सजा दी। इसके बाद से ही लोकायुक्त पुलिस अधिकांश मामलों में आरोपियों को मौके पर ही सहमति पत्र लेेकर रिहा कर देती है।

ताज्जुब तो यह है कि भ्रष्टाचार निवारण कानून में घूसखोर को जमानत देने का कायदा ही नहीं है। मगर, CRPC की धारा—41 की व्याख्या के आधार पर गिरफ्तार नहीं किया जाता है। लोकायुक्त पुलिस के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने सात वर्ष से कम की सजा में मौके पर ही जमानत देने का निर्णय किया है। इसी आधार पर घूसखोर का छोड़ा जा रहा है।
bribe.jpg
Unlimited Bribe in MP
हैरानी : जब चाहा, सीआरपीसी को भूल गए
यह भी हैरान करने वाली बात है कि कुछ घूसखोरों को लोकायुक्त पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ऐसे मामलो में सीआरपीसी की धारा को भूल जाते हैं और भ्रष्टाचार निवारण कानून को आधार बनाते हैं। एक अधिकारी ने बताया, 'ये ऐसे घूसखोर हैं, जो या तो जांच में मदद नहीं करते हैं या इनके पास घूस के अथाह खजाने का अंदेशा होता है।'
bribe_5394104_835x547-m.jpg
IMAGE CREDIT: patrika
तुलना : दूसरे राज्यों में तत्काल गिरफ्तारी
राजस्थान, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में रिश्वतखोरों को जमानत नहीं दी जाती है। गिरफ्तारी के बाद उन्हें विशेष कोर्ट में पेश किया जाता है, वहीं से रिमांड, जेल या रिहाई का फैसला होता है।
अनुमति : रिश्वतखोरों को एक खुशी यह भी
इसी माह सरकार ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 17ए को लागू कर दिया है। इसके बाद तहत भ्रष्ट अधिकारियों, कर्मचारियों पर कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री से लेकर प्रशासनिक विभाग की अनुमति तक अनिवार्य कर दी गई है। भ्रष्टों के लिए यह दोहरी खुशी जैसा है। एक तो वे गिरफ्तार नहीं किए जा रहे और दूसरा जिस विभागाधिकारी की छत्रछाया में वह भ्रष्टाचार कर रहा है, स्वाभाविक रूप से वह कार्रवाई की अनुमति नहीं देगा। ऐसे में वह बचता रहेगा।

प्रावधानों का हो रहा पालन
सीआरपीसी की धारा 41 में गिरफ्तारी से जुड़े प्रावधान तय हैं, सीआरपीसी में तय प्रावधानों के हिसाब से ही लोकायुक्त पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी और जमानत का निर्णय लेती है।
- जस्टिस एनके गुप्ता, लोकायुक्त मध्यप्रदेश

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Udaipur murder case: गुस्साए वकीलों ने कन्हैया के हत्यारों के जड़े थप्पड़, देखें वीडियोMaharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरनूपुर शर्मा विवाद पर हंगामे के बाद ओडिशा विधानसभा स्थगितMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?सरकार ने FCRA को बनाया और सख्त, 2011 के नियमों में किये 7 बड़े बदलावकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.