scriptCorruption in organic farming project for tribals | भ्रष्टाचारः खेती के गुर सिखाने के नाम पर हुआ करोड़ों का 'खेल' | Patrika News

भ्रष्टाचारः खेती के गुर सिखाने के नाम पर हुआ करोड़ों का 'खेल'

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के निर्देश पर जांच समिति गठित

भोपाल

Published: January 14, 2022 06:01:35 pm

भोपाल. आदिवासी परिवारों को सक्षम बनाने जनजातीय कार्य मंत्रालय द्वारा मंजूर जैविक खेती प्रोजेक्ट में हुए फर्जीवाड़े की शिकायत पर केंद्रीय जनजाति आयोग ने कार्रवाई की है।15 दिसंबर 2021 को मंडला कलेक्टर को पत्र लिख हितग्राहियों की पहचान करने के साथ ही आरोपों की जांच कर प्रकरण दर्ज करने को कड़ा है।

corruption_in_organic_farming_project.png

इस पर कलेक्टर हर्षिका सिंह ने सात जनवरी को जिला पंचायत के सीईओ सुनील दुबे की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की है। इसमें कृषि विभाग की प्रभारी उप संचालक मधु अली को बतौर सचिव और नायब तहसीलदार राजेंद्रनाथ प्रजापति को सदस्य रखा गया है। 15 दिन में रिपोर्ट अनुसूचित जनजाति आयोग को देनी है।

योजना में फर्जीवाड़े की शिकायत आरटीआइ एक्टिविस्ट पुनीत टंडन ने आयोग में की थी। बताया गया है कि 2016-17 में मंजूर योजना में 15 पीबीटीजी जिले विशेष जनजाति समूह वाले जिले के अलावा 20 अन्य आदिवासी जिलों के लिए 110 करोड़ रुपए जारी किए गए थे। योजना का क्रियान्यन कृषि विभाग द्वारा किया गया। इसमें नियम विरुद्ध क्रियान्वयन ही बदल दिया गया।

वर्मी कम्पोस्ट किट के साथ ही जैविक खाद बनाने हितग्राहियों को सक्षम बनाना था, पर कृषि विभाग ने वर्मी कम्पोस्ट की जगह बीज किट मुहैया कराए। इसके अलावा हितग्राहियों को राशि बैंकों में नहीं दी गई। साल 2018 में कांग्रेस सरकार के दौरान विधानसभा में मामला उठा था। तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने सात विधायकों की जांच समिति बनाई थी। हालांकि सरकार बदलने के बाद ये मामला ठंडे बस्ते में चला गया।

चौकाने वाली जानकारी
आरटीआइ में पता चला कि पीवीटीजी वाले जिलों में संरक्षित जनजाति बैगा, सहरिया और भारिया जनजाति के लोगों के अलावा अन्य जनजाति और सामान्य, अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को लाभ दिया गया। पीवीजीटी क्षेत्र के लोगों की सूची एवं अन्य आदिवासी हितग्राहियों की सूची लगभग एक जैसी है। सूचियों में थोड़ा बदलाव किया गया। मंडला के कुन्द्रा गांव की सूची में कई अन्य जातियों के लोगों को लाभ देने का पता चला है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारराहुल गांधी से लेकर गहलोत तक कांग्रेस के नेता देश के विपरीत भाषा बोलते हैं : पूनियांश्रीलंकाई नौसेना जहाज की भारतीय मछुआरों के नौका से टक्कर, सात मछुआरे बाल बाल बचेटीआई-लेडी कॉन्स्टेबल की लव स्टोरी से विभाग में हड़कंप, दो बच्चों का पिता है टीआई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.