scriptCost of going to Katara from the bhopal station is 500 rs after 11 PM | MP का ऐसा शहर जहां रात में 15 किमी तक जाने का खर्च 500 रुपए | Patrika News

MP का ऐसा शहर जहां रात में 15 किमी तक जाने का खर्च 500 रुपए

जबकि भोपाल से 512 किमी दूर स्थित कानपुर तक स्लिपर में जाने का खर्च है केवल 315 रुपए

- रात 11 बजे के बाद भोपाल स्टेशन से कटारा जाने का खर्च 500 रुपए

- आपे और डीजल ऑटो की सवारी के भरोसे रहते हैं देर रात आने-जाने वाले मुसाफिर

भोपाल

Updated: June 19, 2022 02:21:12 pm

भोपाल। उत्तर प्रदेश जाने वाली महाकाल एक्सप्रेस में यदि भोपाल से आपने टिकट बुक कराया है, तो यकीन मानिए ट्रेन के किराए से ज्यादा आपको स्टेशन तक पहुंचने में खर्च करना पड़ेगा।

कुल मिलाकर यदि आप भोपाल के होशंगाबाद रोड, कोलार, शाहपुरा, कटारा हिल्स या गोविंदपुरा में रहते हैं और पब्लिक ट्रांसपोर्ट से बैरागढ़ पहुंचना चाहते हैं तो ट्रेन के किराए से ज्यादा आपको वहां तक पहुंचने में खर्च करना पड़ेगा।

bhopal_local_transport.png

यहां ये अवश्य जान लें कि कानपुर सेंट्रल स्टेशन से भोपाल स्टेशन की दूरी करीब 512 किलोमीटर है और आप ये सफर सेकेंड स्लीपर में 315 रुपए में कर सकते हैं। जबकि वहीं कानपुर से भोपाल में उतरने के बाद जब आप भोपाल स्टेशन से कटारा हिल्स क्षेत्र जो भोपाल स्टेशन से करीब 14 से 15 किलोमीटर की दूरी है वहां का सफर रात में करेंगे तो आपको इसके लिए 500 रुपए तक खर्च करने पड़ सकते हैं।

दरअसल भोपाल में रात 10:30 बजे लो फ्लोर बसें डिपो में बंद हो जाती हैं। ऐसे में सुबह 8 बजे तक बाहर से आने जाने वाले मुसाफिर आपे या यात्री ऑटो के भरोसे रहते हैं।

वहीं शहर में ओला-उबर का यह हाल है कि देर रात बुकिंग लेने के बाद प्राइवेट कंपनियों के ड्राइवर अपने हिसाब से इसे निरस्त कर देते हैं। कुल मिलाकर पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से सस्ता किराया लगाकर स्टेशन आने जाने वाली जनता भोपाल में सिस्टम की खामी का खामियाजा भोग रही है।

दूसरे शहरों में रहता है इंतजाम: जहां तक यूपी, महाराष्ट्र के शहरों की बात करें तो यहां रात भर आपको एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचने के लिए सस्ते पब्लिक ट्रांसपोर्ट के माध्यम मिल जाते हैं। लखनऊ में ई-रिक्शा व डीजल ऑटो का चलन है। भोपाल में रात 10:30 बजे के बाद ऑटो नजर आती हैं, लेकिन इनकी संख्या इतनी नहीं है कि पूरे शहर को राहत मिल सके।

कटारा होशंगाबाद के कैंपस सर्वाधिक प्रभावित: नया भोपाल कटारा होशंगाबाद रोड की तरफ तेजी से विकसित होता जा रहा है। एक कैंपस में 300 से 400 परिवार निवास करते हैं। कॉलोनियों के अंदर जाने वाले रास्तों पर रात के वक्त पब्लिक ट्रांसपोर्ट के नाम पर केवल लो फ्लोर बसों का संचालन होता है, वह भी चुनिंदा मार्ग पर।

बीते पांच साल में विकसित हुए ये इलाके-
भोपाल पूर्व- बीएचईएल, निजामुद्दीन कालोनी, अयोध्या नगर, पटेल नगर एरिया शहर के इंडस्ट्रियल एरिया के रूप में विकसित हुआ है।

पश्चिम- लालघाटी, बैरागढ़, भौंरी जैसे इलाकों में इंदौर हाइवे के नजदीक होने की वजह से डेवलपमेंट हुआ है।

उत्तर- कोलार, बैरसिया रोड पर आईटी पार्क सहित तमाम सरकारी शिक्षण संस्थानों के आने की वजह से ये इलाका शहर के नक्शे पर तेजी से विकसित हुआ है।

दक्षिण- बर्रई, कटारा हिल्स, बागसेवनियां, अरविंद विहार, रजत विहार, दानिश नगर जैसे इलाके होशंगाबाद हाईवे के नजदीक होने की वजह से विकसित हो रहे हैं।

सरकार मौजूदा पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मजबूत करने की बजाए मेट्रो जैसे माध्यम लाने प्रयासरत है, लेकिन कोई खास फायदा जनता को मिलने से रहा। जो यात्री सस्ता परिवहन करना चाहते हैं उन्हें माध्यम उपलब्ध करवाना सरकार की जिम्मेदारी है। देर रात आने जाने के लिए व्यवस्था होनी चाहिए।
- राजेंद्र कोठारी, अर्बन डेवलपमेंट के जानकार

बीसीएलएल के पास कुल लो फ्लोर बसें- 225
वर्ष 2015 से 2017 के बीच कंडम बसें- 40
वर्ष 2017 से अब तक कंडम बसें- 25
तीनों बस ऑपरेटरों के पास कुल बसें- 160
तकनीकी कारणों के चलते बंद बसें- 30
शहर में प्रतिदिन मौजूदा बसों की संख्या- 130

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Crisis: क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के फॉर्मूले जैसा ही एकनाथ शिंदे गुट को लाने की तैयारी में बीजेपी, समझें क्या है पार्टी का प्लान बीMaharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.