दृष्टिहीन मूकबधिर नाबालिग से दुष्कर्म करने वालों को 10 साल की कैद

अदालत ने सुनाया फैसला

एसओएस बालग्राम में दृष्टिहीन मूकबधिर नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में अदालत ने शिवकंठ किशोर मिश्रा ओर मनोज कौशल को 10-10 साल के सश्रम कारावास- 14 हजार रूपये जुर्माने की सजा सुनाई है । अपर सत्र न्यायाधीश कुमुदनी पटेल ने यह फैसला सुनाया है। सरकारी वकील योगेश तिवारी ने बताया कि एसओएस बालग्राम में खजूरी कलां में दृष्टिहीन मूकबधिर नाबालिग कक्षा सातवी की छात्रा थी । शिवकंठ किशोर मिश्रा एसओएस बालग्राम खजूरी में शिक्षक था। एसओएस बालग्राम की केयर टेकर निर्मला दाहिया की शिकायत पर पुलिस ने 23 नवंबर 2013 को एफआईआर दर्ज की थी । इसमें बताया गया था कि शिवकंठ किशोर मिश्रा ओर मूकबधिर आरोपी मनोज कौशल ने नाबालिग से डरा धमका कर ज्यादती की थी । डीएनए रिपोर्ट में नाबालिग से ज्यादती कि पुष्टि हुई थी।
आठ माह का गर्भ होने के बाद चला था पता
एसओएस बालग्राम की संचालिका जब दीपावली के अवकाश पर गई थी। उस दौरान नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया गया। उसे इतना डरा धमका दिया गया था कि उसने इस बारे में महीनों तक किसी को नहीं बताया। इस मामले में नाबालिग के गर्भवती होने का पता आठ माह बाद चला था जब उसका पेट बाहर निकल आया। इसके बाद संचालिका ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने पूरी घटना बताई। इसके बाद उन्होंने जाकर एफआइआर दर्ज कराई थी।

 

रिटायर्ड ननि कर्मचारी पर तलवार-रॉड से हमला

भोपाल। श्यामलाहिल्स इलाके में चार बदमाशों ने नगर निगम से रिटायर्ड कर्मचारी पर तलवार, लोहे की रॉड से जान लेवा हमला कर दिया। हमले में वृद्ध को गंभीर चोट लगी है। उनका निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। फिलहाल, आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

पुलिस के मुताबिक, अम्बेङकर नगर शिदेश्वरी मन्दिर कमलानगर निवासी 67 वर्षीय श्यामलाल मैना नगर निगम से रिटायर्ड कर्मचारी हैं। मंगलवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे उनके पास अशोक मालवीय ने फोन किया कि अंकल नारायण उधारी के पैसा दे रहा है। आप आ जाओ, लेकिन श्यामलाल नहीं गए। इसके बाद शाम को वह दूध लेकर अपनी स्कूटर से वापस लौट रहे थे। तभी स्टेट मियूजियम के सामने अशोक मालवीय, नारायण, रोहित, कल्लू ने उन्हें रोक लिया। इसके बाद आरोपियों ने उनपर तलवार, लोहे की रॉड से हमला कर दिया।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned