महिला एरिया प्रबंधक- शाखा प्रबंधक को 7 साल की कैद

महिला एरिया प्रबंधक- शाखा प्रबंधक को 7 साल की कैद

Deepesh Tiwari | Publish: May, 23 2019 02:04:01 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

गृह फायनेंस कंपनी - 4 करोड 50 लाख के गबन का मामला: ईओडब्ल्यू के विवेचक की लापरवाही पर एसपी को पत्र...

भोपाल। गृह फायनेंस कंपनी भोपाल में वर्ष 06-09 के दौरान हुए 4 करोड 50 लाख रूपये के गबन के मामले में अदालत ने तत्कालीन एरिया मैनेजर रीता सिंह और शाखा प्रबंधक अजीत नायर को 7 साल के सश्रम कारावास- 1-1 लाख रूपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

विशेष सत्र न्यायाधीश ईओडब्ल्यू संजीव पांडेय ने बुधवार को यह फैसला सुनाया है। विवेचना के दौरान लापरवाही बरतने पर विवेचक विक्रंात मुराव के खिलाफ अदालत ने फैसले में गंभीर टिप्पणी की है। गृह फाईनेंस कंपनी में 93 अलग-अलग गृह लोन में 4 करोड 50 लाख का गबन हुआ था। सिर्फ 1 लाख 31 हजार और 15 हजार के गृह लोन के मामलों में ही सजा हुई है।

 

 

 

 

 

विवेचना में गंभीर त्रुटि के चलते ईओडब्ल्यू 4 करोड 49 लाख के आरोप प्रमाणित नहीं कर सकी। अदालत ने माना है कि विवेचना के दौरान विक्रांत मुराव ने गंभीर त्रुटियां की हैं।

फैसले की एक प्रति के साथ विवेचक की लापरवाही को लेकर ईओडब्ल्यू एसपी को पत्र भेजा गया है।इसमें स्पष्ट कहा गया है कि यदि अच्छी तरह पूरी गंभीरता से विवेचना होती तो सभी आरोप साबित हो सकते थे। इसलिए विवेचकों को पूरी गंभीरता से काम करना चाहिए।

 

यह है मामला

ईओडब्ल्यू के अनुसार गृह फाईनेंस प्राईवेट लिमिटेड कंपनी अधिनियम के तहत गृह लोन के लिए पंजीबद्ध थी। वर्ष 2006-09 के दौरान कंपनी की एरिया मैनेजर रीता सिंह और प्रबंधक अजीत नायर ने 24 गृह लोन के मामलों मे फर्जी दस्तावेजों के आधार पर 1 करोड 34 लाख के लोन स्वीकृत कर दिए थे।

 

 

 

 

वहीं 69 अन्य मांमलों में कृषि भूमि और विवादित संपत्तियों पर भी करीब 3 करोड से ज्यादा के लोन स्वीकृत कर दिए थे। यह लोग एक बार लोन लेकर गायब हो गए। इन्हें स्वीकृत किया गया पैसा बैंक को वापिस ही नहीं मिला और यह डूबत खाते में चला गया। इससे कंपनी को करीब 4 करोड 50 लाख का नुकसान हुआ था। इस संबंध में ईओडब्ल्यू द्वारा गबन का मामला दर्ज किया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned