सोशल मीडिया पर हुई हरियाणा के युवक से दोस्ती, नौकरी के झांसे में घर छोड़कर भागी नाबालिग

ऑटो चालक की सूझबूझ से आई पुलिस के सम्पर्क में

भोपाल। मंदसौर की एक नाबालिग लड़की सोशल मीडिया इंस्टाग्राम पर हरियाणा के एक युवक से हुई दोस्ती पर घर छोड़कर भाग आई। युवक ने नाबालिग को नौकरी दिलवाने का झांसा देकर हरियाणा बुलाया था। नाबालिग मंदसौर से इंदौर होते हुए भोपाल के आईएसबीटी पहुंची। वह भोपाल स्टेशन जाने के लिए आटो से निकली। इस पर चालक ने उसकी मनोस्थिति भांप गोविंदपुरा पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने किशोरी से पूछताछ की, तो मामले का खुलासा हुआ। पुलिस ने किशोरी को बरामद कर परिजनों को सूचना दे दी और आटो चालक का सम्मान किया है।

गोविंदपुरा पुलिस ने बताया कि 14 वर्षीय नाबालिग मंदसौर की रहने वाली है। उनसे बताया कि मार्च माह में उसने पिता के मोबाइल में इंस्टाग्राम एप डाउनलोड किया था। जिस पर उसकी दोस्ती हरियाणा रेवाड़ी निवासी ललित उर्फ शैलेंद्र नाम के युवक से हुई। दोनों आपस में चैट करने लगे। इस दौरान वीडियो कॉलिंग पर भी उनकी बातचीत हुई। 28 सितंबर को ललित ने कहा कि तुम हरियाणा आ जाओ, मैै तुम्हारी यहां नौकरी लगवा दूंगा। इस पर नाबालिग मंगलवार सुबह घर में बिना बताए मंदसौर से बस में बैठकर इंदौर पहुंची। इंदौर से देर रात भोपाल पहुंची। यहां पर अन्ना नगर निवासी आटो चालक मनोज गायकवाड़ ने बस स्टैैड पर तैनात आरक्षक सुनील को जानकारी दी। सुनील महिला पुलिस के साथ मौके पर पहुंचा और किशोरी को अभिरक्षा में लिया। पुलिस ने उसकी काउंसलिंग की, तो किशोरी ने पूरा घटनाक्रम बताया। इस पर पुलिस ने मंदसौर के गुमशुदगी के मामले खंगाले तो किशोरी के लापता होने की बात सामने आई। इसके बाद पुलिस ने उसके परिजनों को सूचना दी। परिजन उसे लेने के लिए मंदसौर से रवाना हो गए हैं। पुलिस ने आॅटो चालक की सूझबूझ की भी सराहना करते हुए उसका सम्मान किया। उसकी वजह से एक किशोरी का भविष्य खराब होने से बच गया।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned