scriptdebt burden has increasing 34 thousand indebted every mp member | बढ़ रहा है कर्ज का बोझ, 34 हजार कर्जदार है यहां का हर शख्स, वित्तीय वर्ष में पांचवी बार उधार लेगी सरकार | Patrika News

बढ़ रहा है कर्ज का बोझ, 34 हजार कर्जदार है यहां का हर शख्स, वित्तीय वर्ष में पांचवी बार उधार लेगी सरकार

कोरोना ने बिगाड़ी अर्थव्यवस्था: 3 साल में 1 लाख 80 हजार करोड़ से अब 2 लाख 53 हजार करोड़ रुपए तक जा पहुंचा कर्ज।

भोपाल

Published: January 18, 2022 09:56:04 pm

भोपाल. मध्य प्रदेश के सरकारी खजाने की हालत ठीक नहीं है। जरूरतों को पूरा करने के लिए सरकार लगातार कर्ज ले रही है। अब राज्य के बजट से ज्यादा कर्ज हो गया है। यही नहीं, अब 20 साल के लिए फिर 2 हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेने की तैयारी है। इसके लिए बॉण्ड जारी कर वित्तीय संस्थाओं के प्रस्ताव बुलाए गए हैं। चालू वित्तीय वर्ष में सरकार पांचवीं बार कर्ज ले रही है।

News
बढ़ रहा है कर्ज का बोझ, 34 हजार कर्जदार है यहां का हर शख्स, वित्तीय वर्ष में पांचवी बार उधार लेगी सरकार

विशेषज्ञ कहते हैं, लगातार कर्ज बढ़ने से योजनाओं पर इसका असर पड़ता है। बेहतर यह है कि, सरकार अपनी आय बढ़ाए तो अधिक कर्ज की जरूरत न पड़े। हालांकि, सरकार का दावा है कि, विकास कार्य होंगे तो कर्ज तो लेना ही पड़ेगा।

यह भी पढ़ें- ये है बुलों का 'विक्की डोनर', देशभर में इसके हैं पोने 2 लाख से ज्यादा बच्चे


आए के स्त्रोत कम, खर्च ज्यादा

राज्य की आर्थिक सेहत कई साल से खराब है, लेकिन कोरोना काल में स्थिति ज्यादा बिगड़ गई है। लॉकडाउन ने मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था को बेपटरी कर दिया है। राजस्व आय में कमी आई और आय के अन्य स्रोत भी कम हो गए हैं। विकट आर्थिक चुनौतियों से निपटते हुए सरकार ने काम किया। कई विभागों के खर्चों में कटौती करते हुए कोरोना संक्रमण से बचाव और इलाज के लिए बजट की व्यवस्था की गई। प्रभावितों की मदद की गई। खेती-किसानी में भी हितग्राहियों को राशि बांटी गई।


सरकार ऐसे लेती है कर्ज

-जरूरत के मुताबिक कर्ज लेने के लिए प्रदेश सरकार एक बॉण्ड जारी करती है। आरबीआई के माध्यम से ये बॉण्ड जारी होते हैं।

-खुले बाजार से कर्ज लेने के लिए प्रस्ताव बुलाए जाते हैं, इसमें बैंक और वित्तीय संस्थाओं समेत अन्य कोई भी कर्ज देने के लिए आवेदन कर सकता है।

-निर्धारित तिथि तक आए ऑफर को खोला जाता है, जो सबसे कम ब्याज दर पर कर्ज देने को तैयार होता है, सरकार उसी से कर्ज लेती है।

-कर्ज के लिए ब्याज दरें बाजार के हिसाब से निर्धारित होती है।

यह भी पढ़ें- घर में रहकर ही संक्रमित हो रहे बच्चे और बुजुर्ग, ये कम्यूनिटी स्प्रेड नहीं लापरवाही है


बजट से ज्यादा हो गई देनदारी

तीन साल पहली कर्ज का स्थिति पर नजर डाली जाए तो ये कर्ज 1 लाख 80 हजार करोड़ रुपए था, लेकिन अब यह बढ़ते-बढ़ते 2 लाख 53 हजार करोड़ रुपए तक जा पहुंचा है। जबकि, राज्य का बजट 2 लाख 41 हजार करोड़ रुपए का ही है। अगर आबादी के हिसाब से कर्ज देखें तो हर एक बाशिंदा औसतन 34 हजार रुपए से अधिक का कर्जदार हो गया है।


एक्सपर्ट व्यू: कर्ज लिमिट में ही लिया जाए...

वित्तीय मामलों के जानकार एवं पूर्व वित्त मंत्री राघवजी के अनुसार, सरकार को चाहिए कि, कर्ज लिमिट में ही लिया जाए। वित्तीय अनुशासन के लिए कर्ज का मर्यादित होना जरूरी है। बजट से ज्यादा कर्ज होना अच्छा नहीं कहा जा सकता। सरकार अनावश्यक खर्चों में कटौती कर आय के स्रोत बढ़ा सकती है। इसके लिए और भी उपाय हैं। वित्त मंत्री रहते हुए मैंने हमेशा प्रयास किया कि राज्य की जीडीपी के तीन प्रतिशत से अधिक का कर्ज राज्य पर न हो। इसलिए मैंने कर्ज की सीमा दो से ढाई प्रतिशत ही रखी। वित्तीय अनुशासन बनाए रखने का प्रयास किया।

बस और ट्रक में जोरदार भिड़ंत, पुलिया के नीचे गिरा ट्रक - देखें Video

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.