कोरोना की तरह बदल रहा डेंगू का वायरस, मरीजों में अलग-अलग लक्षण, डॉक्टर भी हैरान

कम नहीं हो रहे प्लेटलेट्स

By: deepak deewan

Published: 22 Sep 2021, 09:19 AM IST

भोपाल. कोरोना के बाद अब मध्यप्रदेश में डेंगू का खतरा मंडरा रहा है। डेंगू के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि कई मरीजों के प्लेटलेट्स डाक्टर्स की तमाम कोशिश के बाद भी कम नहीं हो रहे हैं. इससे मरीज, उनके परिजनों के साथ डाक्टर्स भी परेशान हो रहे हैं. सबसे बुरी बात तो यह है कि कोरोना की तरह डेंगू के वायरस भी बार—बार बदल रहे हैं. डाक्टर्स वायरस के म्यूटेशन की आशंका जता भी रहे हैं।

राजधानी भोपाल में ही मंगलवार को आठ नए मरीज मिले। इससे डेंगू के मरीजों की संख्या यहां बढ़कर २९१ हो गई है। कोरोना की तरह डेंगू वायरस भी बदल रहा है। डेंगू के मरीजों में अलग लक्षण मिल रहे हैं। कई मरीजों में पॉजीटिव होने के बावजूद प्लेटलेट्स कम नहीं हो रहे तो कई ऐसे भी हैं जो बिना बुखार के ही पॉजीटिव हो गए। चिकित्सक भी इससे हैरान हैं और वायरस के म्यूटेशन की भी आशंका जता रहे हैं।

सात दिन बुखार, पर नहीं घटे प्लेटलेट्स
लालघाटी के रोहित कुमार को जोड़ों में दर्द के साथ तेज बुखार आया तो डेंगू टेस्ट कराया। बुखार तेज होने पर वे एक निजी अस्पताल में भर्ती हो गए। पहले दिन ब्लड रिपोर्ट में प्लेटलेट्स १.७५ लाख मिली। अगले दिन प्लेटलेट्स की संख्या कम होकर १.६५ तक हुई लेकिन इसके बाद प्लेटलेट्स नहीं घटी। अमूमन डेंगू के इलाज के दौरान प्लेटलेट्स की संख्या तेजी से कम होती है. यह दो से तीन दिन में ही २५ हजार तक पहुंच जाती है।

dengue2.jpg

बिना बुखार पॉजीटिव हो गए
बेटी के डेंगू पॉजीटिव होने के बाद पिजा रवि श्रीवास्तव को पैरों में दर्द हुआ। जिला अस्पताल में दिखाया तो डेंगू पॉजीटिव मिला। ब्लड टेस्ट में भी पहले दिन प्लेटलेट्स १.५ लाख थे, लेकिन अगले दिन घटकर ६० हजार और फिर ३५ हजार पर पहुंच गया। रवि को अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां तीन दिन इलाज के बाद प्लेट्लेटस काउंट बढ़े। डॉक्टर हैरान है कि बुखार क्यों नहीं आया।

और बढ़ेंगे पैट्रोल-डीजल के दाम, कुछ ही दिनों में होगी भारी बढ़ोत्तरी

हैरान करता पैटर्न
पैथोलॉजिस्ट डॉ. अमित गोयल ने बताया कि यह हैरान करने वाला पैटर्न है। ज्यादातर मरीजों में बुखार के साथ डेंगू के लक्षण मिल रहे हैं। हालांकि उनका प्लेटलेट्स सामान्य है। मरीज सामान्य बुखार की दवाओं से ठीक हो रहे हैं। जेपी अस्पताल अधीक्षक डॉ. राकेश श्रीवास्तव के अनुसार हो सकता है कि इम्युनिटी अच्छी हो इसलिए प्लेटलेट्स न गिरे हों। कई बार लोगों को पता नहीं चलता और बुखार आता है। १-२ मरीजों में सामान्य है, लेकिन बड़ी संख्या में है तो शोध का विषय है।

Corona virus
deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned