कांग्रेस के दिग्गज नेता ने दी सड़क पर उतरने की चुनौती, कहा- मैं खमोश नहीं रहूंगा, कमलनाथ के इस फैसले से हैं नाराज

महात्मा गांधी और गांधी विचारधारा के हत्यारे के खिलाफ, मैं खामोश नही बैठ सकता हूं।

By: Pawan Tiwari

Updated: 26 Feb 2021, 03:11 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में कांग्रेस में एक फिर से दरार पड़ती दिखाई दे रही है। इस बार लड़ाई महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे की विचारधारा को लेकर है। मध्यप्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव ने अपनी ही पार्टी के फैसले के खिलाफ आवाज उठाई है। गोड़से की विचारधारा के समर्थक माने जाने वाले नेता बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में शामिल होने का विरोध किया है।

अरुण यादव ने लेटर लिखते हुए कहा- मैं आरआरएस विचारधारा को लेकर लाभ हानि की चिंता किये बगैर जुबानी जंग नहीं, सडकों पर लड़ता हूँ। मेरी आवाज कांग्रेस और गांधी विचारधारा को समर्पित एक सच्चे कांग्रेस कार्यकर्ता की आवाज है। जिस संघ कार्यालय में कभी तिरंगा नहीं लगता है वहां इंदौर के संघ कार्यालय (अर्चना) पर कार्यकर्ताओं के साथ जाकर मैने तिरंगा फहराया। देश के सारे बड़े नेता कहते हैं कि देश का पहला आतंकवादी नाथूराम गोडसे था। आज गोडसे की पूजा करने वाले की कांग्रेस में प्रवेश को लेकर वे सब खामोश क्यो हैं?

यदि यही स्थिति रही तो आतंकवाद से जुंडी भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर, जिसने गोडसे को देशभक्त बताया है, जिसे लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि मैं प्रज्ञा ठाकुर को जिंदगीभर माफ नहीं कर सकता हूं। यदि वो भविष्य में कांग्रेस में प्रवेश करेगी तो क्या कांग्रेस उसे स्वीकार करेगी?

अपनी ही सरकार में कमलनाथ ने इन्ही बाबूलाल चौरसिया और उनके सहयोगियों का ग्वालियर में गोडसे का मंदिर बनाने और पूजा करने के विरोध में एफआईआर दर्ज करने का निर्देश दिया था। इन स्थितियों में जब संघ और पूरी भाजपा एकजुट होकर महात्मा गांधीजी, नेहरूजी और सरदार वल्लभभाई पटेल के चेहरे को षड्यंत्रपूर्वक नई पीडी के सामने भद्दा करने की करने की कोशिश कर रही है।

तब कांग्रेस की गांधी विचारधारा को समर्पित एक सच्चे सिपाही के नाते मै खामोश नही बैठ सकता हूँ। यह मेरा वैचारिक संघर्ष किसी व्यक्ति के खिलाफ नहीं होकर कांग्रेस पार्टी की विचारधारा को समर्पित है। इसके लिए मैं हर राजनीतिक क्षति सहने को तैयार हूं।

बाबूलाल चौरसिया कांग्रेस में हुए हैं शामिल
मध्यप्रदेश की सियासत में एक बार फिर से दल-बदल की सियालत शुरू हो गई है। दरअसल, नगरीय निकाय चुनावों को देखते हुए नेता अपनी पार्टी बदल रहे हैं। ग्वालियर नगर निगम में वार्ड नंबर 44 के पार्षद एवं हिन्दू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।


चौरसिया जिस वार्ड से पार्षद हैं, वहां देश का इकलौता नाथूराम गोडसे का मंदिर है। चौरसिया के कांग्रेस में शामिल होने पर एमपी कांग्रेस ने ट्वीट कर उनका स्वागत किया है। न्यूज एजेंसी एएनआइ के अनुसार बाबूलाल चौरसिया 2017 में ग्वालियर में नाथूराम गोडसे की मूर्ति की स्थापना के लिए एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। वह हिंदू महासभा से ग्वालियर नगर निगम वार्ड-44 के पार्षद हैं।

Kamal Nath
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned