दिग्विजय सिंह ने किया पीएम मोदी पर बड़ा हमला, कहा- मर्द बनो, हमारी कामयाबी स्वीकारो

दिग्विजय सिंह ने किया पीएम मोदी पर बड़ा हमला, कहा- मर्द बनो, हमारी कामयाबी स्वीकारो

Manish Gite | Publish: Aug, 22 2018 02:06:12 PM (IST) | Updated: Aug, 22 2018 02:17:20 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

दिग्विजय सिंह ने किया पीएम मोदी पर बड़ा हमला, कहा- मर्द बनो, हमारी कामयाबी स्वीकारो

 

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। इस बार उन्होंने तीखा तंज कसते हुए कहा है कि जीडीपी ग्रोथ को लेकर कहा है कि मोदीजी यूपीए की जीडीपी ग्रोथ रेट देखकर डर गए क्या? कब तक अपनी नाकामयाबी छुपाते रहेंगे? जनता सबकुछ समझती है। मर्द बनो और यूपीए की कामयाबी स्वीकार करो। कब तक भारत के लोगों को जुमलेबाजी से गुमराह करते रहोगे? सच्चाई तो सामने आएगी।

अक्सर विवादित बयान देकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह सुर्खियों में बने रहते है। इस बार कांग्रेस नेता ने बुधवार प्रधानमंत्री मोदी के लिए ट्वीट करके राजनीति गर्मा दी है। इसके बाद दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर काफी प्रतिक्रिया दी जा रही है। दिग्विजय सिंह भी ट्रोल हुए हैं, तो कांग्रेस समर्थित लोग मोदी सरकार की खामियां गिना रहे हैं।

 

मर्द बनो और यूपीए की कामयाबी स्वीकारो
मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस बार तीखा तंज कसते हुए कहा है कि मोदीजी मर्द बनो और यूपीए की कामयाबी स्वीकार करो।

 

cogress

और क्या बोले- दिग्विजय
-देश की आर्थिक वृद्धि दर के आंकड़े पेश करते हुए उन्होंने कहा कि 2006-07 में यह 10.08 फीसदी रहा।
-यह आंकड़े पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल के हैं।
-आधिकारिक जानकारी में यह आंकड़े दिए जाने के बाद दिग्विजय सिंह ने पीएम मोदी को घेरा है।

रिपोर्ट में 2004-05 और 2011-12 की कीमतों के आधार पर वृद्धि दर की तुलना की गई है।

-2004-05 के अंतर्गत सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर स्थिर मूल्य पर 2006-07 में 9.57 फीसदी रही। उस समय मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे। 2011-12 के अंतर्गत यह वृद्धि दर संशोधित होकर 10.08 प्रतिशत रहने की बात कही गई है।
-1991 में पीवी नरसिम्हा राव सरकार के समय आर्थिक उदारीकरण की शुरूआत के बाद यह देश की सर्वाधिक वृद्धि दर है।



वेबसाइट पर भी उपलब्ध है यह जानकारी
गौरतलब है कि राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग की ओर से गठित कमेटी ऑफ रीयल सेक्टर स्टैटिक्स ने 2004-05 के आधार पर GDP के आंकड़े तैयार किए हैं। यह रिपोर्ट सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की वेबसाइट पर भी जारी की गई है।

Ad Block is Banned