दिग्विजय बोले जीत का कारण बताओ और टिकिट ले जाओ- see video

दिग्विजय बोले जीत का कारण बताओ और टिकिट ले जाओ- see video

Deepesh Tiwari | Publish: Sep, 10 2018 02:46:35 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

दिग्विजय सिंह के यहां लगा दावेदारों का जमावड़ा...

भोपाल@अरुण तिवारी...

कांग्रेस के लिए रविवार का दिन कई मायनों में कुछ अलग हट कर रहा। एक ओर जहां सोमवार को पेट्रोल की कीमतों को लेकर किए जा रहे कांग्रेस के भारत बंद के उल्ट भोपाल में पेट्रोल पंप खुला रखने की बात मध्यप्रदेश पेट्रोल पंप एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह की ओर से कही गई। वहीं रविवार को हजारों की संख्या में लोग कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह से मिलने पहुंचे। जिसके चलते सर्किट हाउस में भीड़ लग गई।

सामने आई जानकारी के अनुसार समन्वय समिति के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से मिलने के लिए सर्किट हाउस में दावेदारों का जमावड़ा लगा। पूरे प्रदेश के दावेदार हाथों-हाथ टिकट लेकर विधानसभा की सीढि़यां चढऩे को बेताब नजर आए।

दिग्विजय सर्किट हाउस के मेन गेट पर खड़े हो गए और दावेदारों की लंबी कतार लगवा दी।

एक घंटे में उन्होंने एक हजार दावेदारों को टिकट का आश्वासन दे दिया लेकिन शर्त भी लगा दी, दिग्विजय ने कहा कि आवेदन फॉर्म में ये लिखना पड़ेगा कि आखिर उनको टिकट क्यों दी जाए और कैसे जीतेंगे उसकी गारंटी क्या है।

दिग्विजय से मिलने पूर्व मंत्री बृजेंद्र राठौर, जसवंत सिंह समेत पूर्व सांसद,पूर्व विधायक और अन्य कार्यकर्ता पहुंचे। कतार लगाकर दिग्विजय से मिलने का जिम्मा पूर्व मंत्री राजकुमार पटेल ने संभाल रखा था।

ये बताए दावेदारों ने कारण - राजगढ़ से आए युवक नीरज ने कहा कि मेरी राजा साहब के साथ इतनी फोटों हैं कि यदि उन्होंने फाइल देख ली तो टिकट दे ही देंगे।

पन्ना की गुन्नौर सीट से दावेदार राधा चौधरी अपने पति धूराम चौधरी के साथ टिकट मांगने आईं। राधा ने बताया कि उनकी विधानसभा सीट पर उनकी जाति के सबसे ज्यादा वोट हैं,इसलिए उनका जीतना तय है बस राजा साहब टिकट दिला दें। खिलचीपुर से आए लोगों ने कहा कि मंडलोई वकील साहब को टिकट दे दो राजा साहब तभी जीत पाएंगे।

 

फिर बढ़ी तारीख - कांग्रेस के उम्मीदवारों की पहली सूची फिर टल गई है। कांग्रेस ने तीसरी बार ये तारीख आगे बढ़ाई है। प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पहले कहा था कि 12 सितंबर तक 80 उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिए जाएंगे,उसके बाद ये तारीख 15 सितंबर हो गई। अब कमलनाथ कहते हैं कि पहली सूची २० सितंबर के बाद ही घोषित की जाएगी।

वहीं दूसरी तरफ कमलनाथ ने धनगर और दांगी समाज की बैठक में कहा कि हमें एक-एक सीट जीतना है इसके लिए सर्वे कराया गया है,यह भी देखा जाएगा कि जिस व्यक्ति को टिकट दिया है उसे जनता का समर्थन प्राप्त है या नहीं, हर सीअ को जीतने के लिए लोकप्रिय उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा। आउट सोर्स विद्युत कर्मचारी संघ ने भी पीसीसी पहुंचकर कमलनाथ को ज्ञापन सौंपा और भाजपा को वोट न देने की कसम खाई।

40 सीटों पर सिंगल नाम - पहली सूची में 80 उम्मीदवारों के नाम होंगे, जिनमें से करीब 40 सीटों पर सिंगल नाम का ही पैनल है। ये चालीस सीटें मौजूदा विधायकों की हैं। 40 विधायकों की फिर से उम्मीदवारी का एेलान पहली सूची में कर दिया जाएगा, अन्य विधायकों का सर्वे के आधार पर दूसरी सूची में नाम आएगा। बाकी 40 सीटें एेसी हैं जो कांग्रेस तीन या उससे ज्यादा बार से नहीं जीती और उन पर दावेदारों की संख्या ज्यादा नहीं है,उनके नाम भी पहली सूची में आ जाएंगे।

Ad Block is Banned