scriptDozens of stories are related to Sanchi Stupa | अंग्रेजों ने की थी 'सांची स्‍तूप की खोज, साथ ले जाना चाहते थे अस्थि | Patrika News

अंग्रेजों ने की थी 'सांची स्‍तूप की खोज, साथ ले जाना चाहते थे अस्थि

सांची स्तूप से जुड़ी हैं दर्जनों कहानियां, आध्यात्म के साथ कला के प्रतीक
कभी अंग्रेजों ने की थी यहां की खोज, ले जाना चाहते थे यहां से मिले अस्थि कलश

भोपाल

Updated: June 16, 2022 04:18:14 pm

भोपाल। शहर के आसपास कई धरोहरें हैं। इन धरोहरों में सांची के स्तूप एक हैं। इनकी जुड़ी हुई कई कहानियां तो आम हैं लेकिन कुछ ऐसे किस्से भी हैं जो काफी रोचक हैं। अंग्रेजों के शासन काल के दौरान इसकी खोज हुई थी। यहां कुछ अस्थिकलश मिले थे जिन्हें लंदन भेजने की योजना तो बनी लेकिन जहाज बीच सम्रुद में डूब गया।

sanchi_.jpg
Sanchi Stupa

बताया जाता है कि ब्रिटिश अधिकारी जनरल टेलर ने 1818 में सांची स्तूप की खोज की। उसके बाद कई ब्रिटिश अधिकारी यहां उत्खनन करते रहे। ऐसा कहा जाता है कि यहां एक कलश मिला था। इतिहासकार और पुरातत्वविदों के मुताबिक करीब 2300 साल पहले इसके पास एक नगर बसा था। उसी दौरान ये स्तूप बने थे। यह नगर बेतवा और बेस नदी के किनारे पर है जिस कारण हर साल यहां बाढ़ से लोग बेघर हो जाते थे। इसके प्रमाण के तौर पर मिट्टी के कई बड़े ढेर देखने को मिलते हैं जो बाढ़ के कारण बनते हैं।

कभी यह पूरा शहर था

पुरातत्वविद् डॉ. नारायण व्यास के मुताबिक यह कभी एक शहर था। काफी कारीगर यहां पर थे। काफी समृद्ध था लेकिन किसी कारण से यह मिट गया। इसके मिटने के पीछे भी कई कारण बताए हैं। पुरातत्वविदों के मुताबिक इस जगह तीसरी से लेकर ग्यारवहीं सदी तक बसाहट के प्रमाण मिले हैं।

कई और रहस्य छिपे हैं यहां

सांची के स्तूप विश्वविख्यात हैं। डॉ. व्यास के मुताबिक ये स्तूप उसी दौरान बनाए गए थे। विदिशा का हिस्सा सम्राट अशोक के क्षेत्र में आता था। उनकी पत्नी ने बौद्ध धर्म स्वीकार किया था। उन्हीं के कहने पर यहां पर स्तूप बनवाए गए थे। यहां नगर बाढ़ के कारण मिटता रहा लेकिन स्तूप पहाड़ी पर होने से बचे रहे।

जानिए क्या है सांची के स्तूप का इतिहास

- सांची का प्रमुख बौद्ध स्तूप 42 फुट ऊंचा है।
-यहां बुद्ध की शिक्षाओं से जुड़ी ऐतिहासिक सामग्री है।
-जिसे बौद्ध धर्म में बड़े आदर के साथ पढ़ा जाता है।
-सांची अशोक के पुत्र महेन्द्र का ननिहाल था।
-यहां के अधिकतर मठ और स्तूप अशोक की धर्मपत्नी देवी ने बनवाए थे।
-बौद्ध धर्म को ऊंचाईयों पर पहुंचाने के लिए सम्राट अशोक का विशेष योगदान माना जाता है।
-अशोक ने कई स्तूपों और स्मारकों का निर्माण करवाया।
-जिनसे बौद्ध धर्म की शिक्षाओं और नीतियों का प्रचार-प्रसार होता है।
-श्रीलंका जाने से पहले महेन्द्र एक महीने तक यहीं रहे थे।
-इसका निर्माण सम्राट अशोक ने कराया था।
-विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप के बारे में माना जाता है कि इस जगह का चुनाव सम्राट अशोक ने किया था।
-बौद्ध धर्म में ध्यान का बड़ा महत्व है।
-1989 में यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया।
-इसी दृष्टि से यह जगह शांत, सुंदर, था जहां आसानी से ध्यान किया जा सकता था।
-यहां पहले बौद्ध विहार भी थे।
-वर्तमान में सांची देश का प्रमुख पर्यटक स्थल बन चुका है।
-सांची मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल से लगभग 50 किलोमीटर दूर है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra : फ्लोर टेस्ट से गायब क्यों रहे MVA के 11 MLAs, कारण जानकर Congress की उड़ी नींदCBSE Board Result 2022: सीबीएसई 10वीं-12वीं का परिणाम कब करेगा जारी, cbseresults.nic.in पर देखें लेटेस्ट अपडेटफिर गोलीबारी से दहला अमेरिका: फ्रीडम डे परेड में फायरिंग से 6 लोगों की मौत, 57 घायलभूंकप के झटकों से थर्राया अंडमान निकोबार, रिक्टर स्कैल पर 5 मापी गई तीव्रताEknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयसिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद कार में पिस्तौल लहराते हुए जश्न मनाते दिखे हत्यारे, वायरल हुआ वीडियोबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.