scriptdrama in city: drama in bhopal, dance, bharatanatyam, drama in india | प्रेमिका के लिए युवक ने अपनी पत्नी को छोड़ा, महिला ने खड़ा किया अपना बिजनेस, जानिए कहानी... | Patrika News

प्रेमिका के लिए युवक ने अपनी पत्नी को छोड़ा, महिला ने खड़ा किया अपना बिजनेस, जानिए कहानी...

वीरांगना नाट्य समारोह के पहले दिन नाटक 'बीती अमावस की रतिया' का मंचन

भोपाल

Updated: March 05, 2022 10:34:47 pm

भोपाल। रंगश्री लिटिल बैले ट्रुप में शनिवार से वीरांगना नाट्य समारोह शुरू हुआ। पहले दिन नाटक 'बीती अमावस की रतिया' का मंचन हुआ। गीताश्री लिखित इस नाट्य प्रस्तुति का निर्देशन स्वास्तिका चक्रवर्ती ने किया। 50 मिनट के इस नाटक में 14 कलाकारों ने ऑनस्टेज अभिनय किया। इससे पहले पूर्वरंग में वरिष्ठ नृत्यांगना डॉ. लता सिंह मुंशी की शिष्याओं की भरतनाट्यम नृत्य प्रस्तुति दी। प्रस्तुति की शुरुआत नृत्यांगनाओं ने देवी के आह्वान के साथ किया। इसमें उन्होंने महालया की प्रस्तुति दी। प्रस्तुति में पारम्परिक धूनिंची नृत्य का प्रयोग किया गया। प्रस्तुति के अगले क्रम में नृत्यांगनाओं ने देवी सशक्तिकरण की प्रस्तुति दी। इसके माध्यम से ब्रम्हा, विष्णु, महेश सभी देवों द्वारा मां को प्रणाम करते हुए दिखाया कि मां की शक्ति के सामने सभी नतमस्तक हैं।

drama
पूर्वरंग में वरिष्ठ नृत्यांगना डॉ. लता सिंह मुंशी की शिष्याओं की भरतनाट्यम नृत्य प्रस्तुति दी।
dance

शादी की रात ही छोड़ जाता है पति
नाटक में पुरुष प्रधान समाज में महिला के सशक्त बनने की कहानी को दिखाया गया। नाटक की कहानी उम्मों नाम की ग्रामीण महिला के जीवन के इर्द-गिर्द घूमती है। नाटक की कहानी फ्लैशबैक से शुरू होती है। जहां 25 साल पहले मालभोग सिंह ठाकुर की शादी ग्रामीण लड़की उमा से जबरदस्ती करवा दी जाती है। मालभोग किसी दूसरी लड़की से प्यार करता है। नाराज होकर मालभोग शादी के दिन ही घर से भाग जाता है। मां, बहू को ही बेटे के रूप में अपनाने का फैसला लिया। घरेलू कामकाज में माहिर उमा ने धीरे-धीरे अपनी पढ़ाई पूरी करती है। अपने काम में वो इतनी निपुण हो गई कि दूसरी गांव की लड़कियों को वो इस काम में माहिर करने लगी। एक दिन मालभोग की पत्नी घर छोड़कर चली जाती है तो मालभोग सोचता है कि उसकी एक पत्नी भाग गई तो क्या हुआ दूसरी पत्नी गांव में है। वो यह सोचकर गांव वापस आ जाता है।

पति को अपनाने से इंकार कर देती है उमा
गांव आकर वो देखता है कि उमा पहले की तरह अबला नहीं है वो अब सबल हो गई और आत्मनिर्भर बन गई है। उमा के इस उत्कृष्ट कार्य के लिए कलेक्टर उसे सम्मानित करने के लिए आते है। घर के बाहर मालभोग को देख उमा उसे अपनाने से इंकार कर देती है और समाज के सामने कहती है कि स्त्री को भोग का साधन नहीं है मालभोग...। जब मन चाहा अपना लिया और जब मन चाहा छोड़ दिया। उमा ने मालभोग को अपनाने से इंकार कर दिया और वो नौकरी करने चली जाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.