scriptE-waste centers to open | पर्यावरण सुरक्षा: अब आप भी दे सकेंगे इंजीनियरिंग-पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इलेक्ट्रॉनिक कचरा | Patrika News

पर्यावरण सुरक्षा: अब आप भी दे सकेंगे इंजीनियरिंग-पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इलेक्ट्रॉनिक कचरा

खुलेंगे ई-वेस्ट सेंटर: 8 इंजीनियरिंग, 69 पॉलिटेक्निक कॉलेजों के लिए प्लान

भोपाल

Published: June 05, 2022 12:34:56 pm

भोपाल@श्याम सिंह तोमर

प्रदेश के इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेज परिसरों को पर्यावरण हितैषी और जन उपयोगी बनाने की कवायद शुरू की जा रही है। नवाचार के तहत जुलाई से इनमें ई-वेस्ट कलेक्शन सेंटर शुरू किए जा रहे हैं। यानी संबंधित शहर-कस्बे के लोग हर घर से निकलने वाला इलेक्ट्रॉनिक कचरा यहां दे सकेंगे।

तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग की योजना के अनुसार, 8 इंजीनियरिंग और 69 पॉलिटेक्निक संस्थान उन निजी एजेंसियों से अनुबंध करेंगे, जो ई-कचरे का वैज्ञानिक ढंग से निस्तारण करते हैं। साथ ही कॉलेज परिसर को हरा-भरा बनाने के लिए नीम के पौधे रोपे जाएंगे। वर्षा जल को भूमिगत स्रोतों तक पहुंचाने के लिए पिट (गड्ढे), पोखर और तालाब खोदने का अभियान भी शुरू होगा।

e-waste.png
इस कदम का कारण : ई-वेस्ट जलाने से पर्यावरण को हानि
शहरों में ई-वेस्ट कबाड़ी को दिया जाता है, जिसे जलाकर-तोड़कर तांबे के तार, नट-बोल्ट और कांच निकालने के लिए पर्यावरण और मिट्टी को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। केंद्र सरकार की गाइडलाइन के बाद नगर निगमों ने ई-वेस्ट कलेक्शन के प्रयास शुरू किए हैं, हालांकि ये औपचारिकता भर है।
लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए- एनवॉयरमेंट फ्रेंड का दर्जा
कॉलेज के ई-वेस्ट कलेक्शन सेंटर तक आमजन कचरा देने आएं, इसके लिए प्रोत्साहन की भी योजना है। जो जितना ज्यादा कचरा लाएगा, पड़ोसियों व कॉलोनी के लोगों को प्रेरित करेगा, उसे एनवॉयरमेंट फ्रेंड का दर्जा दिया जाएगा। इंजीनियरिंग संस्थान के छात्र-छात्राओं के बीच निबंध और कविता लेखन की प्रतियोगिताएं भी कराई जाएंगी, जिनके पुरस्कार आम लोगों के हाथों दिलवाए जाएंगे।

कई हेक्टेयर में फैले कॉलेज परिसर
इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेज के परिसर कई हेक्टेयर में हैं। इनमें से कुछ के पास बड़े पेड़-पौधे वाले ग्रीन बेल्ट हैं तो कुछ ने गार्डन विकसित किए हैं। इनमें से रोजाना घास, सूखी पत्तियों का कचरा निकलता है, जिसे जलाने या फेंकने के बजाय केंचुआ डालकर कम्पोस्ट खाद बनाई जाएगी। इसी तरह से हॉस्टल, कैंटीन, मैस और क्लासरूम से निकलने वाले कचरे का वर्गीकरण कर उसे भी रिसायकल करने के लिए वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया जा रहा है।

नवाचार किए जाएंगे
पुराने ढर्रे से इंजीनियरिंग संस्थान नहीं चलाए जा सकते। नवाचार किए जाएंगे, ताकि संस्थान और आम लोगों का जुड़ाव हो। दूसरा, पर्यावरण सुधार के लिए भी यह कवायद कारगर साबित होगी।
- डॉ. मोहन सेन, सहायक संचालक, तकनीकी शिक्षा-कौशल विकास विभाग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?सुप्रीम कोर्ट ने 'रेवड़ी कल्चर' के खिलाफ सभी पक्षों से मांगे सुझाव, 22 अगस्त तक दिया वक्तशिवमोगा तनाव पर कर्नाटक BJP नेता केएस ईश्वरप्पा का विवादित बयान- मुस्लिम यहां शांति से रहे या पाकिस्तान चले जाएंMumbai News: मुंबई में डेंगू, मलेरिया और Swine Flu का तांडव जारी, 7 महीने के भीतर स्वाइन फ्लू से 43 लोगों की मौतICC ने जारी किया '2023-27 FTP' का पूरा कार्यक्रम, देखिए टीम इंडिया का पूरा शेड्यूलकेरल कोर्टः यौन उत्पीड़न की शिकायत पहली नजर में नहीं टिकेगी, जब महिला ने 'यौन उत्तेजक' पोशाक पहनी हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.